यूपी की राजनीति सियासत में कई ऐसे नेता हैं जो जुर्म की दुनिया से निकलकर राजनीति की गलियारों में आए। ये दबंग चुनाव लड़कर विधान सभा से लेकर संसद तक भी पहुंचे। लेकिन ये सब होने के बावजूद भी वो लोग अपनी माफिया वाली छवि से बाहर आ पाए। ऐसे ही एक बाहुबली नेता का नाम अतीक अहमद है। ये बाहुबली नेता अब गुजरात की जेल में बंद हैं।

आपको बता दें कि पूर्व विधायक और पूर्व सांसद अतीक अहमद मूल रूप से उत्तर प्रदेश के श्रावस्ती जिले के हैं। उनका जन्म 10 अगस्त 1962 को हुआ था तब उनके परिवार की आर्थिक हालत अच्छी नहीं थी।

अतीक के पिता फिरोज अहमद इलाहाबाद स्टेशन पर तांगा चलाते थे। इसके बावजूद वो अतीक को पढ़ाना चाहते थे, लेकिन पढ़ाई में उनकी कोई रूचि नहीं थी। इसी वजह से उन्होंने हाई स्कूल में फेल हो जाने के बाद पढ़ाई छोड़ दी।

इसके बाद माफियाओं की तरह ही अतीक अहमद ने भी जुर्म की दुनिया से सियासत की दुनिया का रुख किया। पूर्वांचल और इलाहाबाद में सरकारी ठेकेदारी, खनन और उगाही के कई मामलों में उनका आता रहा।

समय के साथ अतीक के खिलाफ दर्जनों केस दर्ज होते गए। इसके बाद 1992 में इलाहाबाद पुलिस ने अतीक अहमद का कच्चा चिट्ठा जारी किया था। इसमें अतीक अहमद के खिलाफ उत्तर प्रदेश के लखनऊ, कौशाम्बी, चित्रकूट, इलाहाबाद ही नहीं बल्कि बिहार राज्य में भी हत्या, अपहरण, जबरन वसूली आदि के मामले दर्ज हैं।

इसके बाद अतीक ने राजनीति का रुख किया और वर्ष 1989 में पहली बार इलाहाबाद (पश्चिम) विधानसभा सीट से अतीक ने चुनाव लड़ा और जीते भी। इसके बाद अतीक अहमद ने 1991 और 1993 का चुनाव निर्दलीय लड़ा और फिर से जीते। 1996 में उसी सीट पर अतीक को समाजवादी पार्टी ने टिकट दिया और वह एक बार फिर से विधायक चुने गए। अतीक अहमद पांच बार इलाहाबाद (पश्चिम) से विधायक रहे। जबकि एक बार वह फूलपुर लोकसभा सीट से सांसद रहे।
साल 2013 में जब सूबे में फिर से समाजवादी पार्टी की सरकार बनी तो, फिर से अतीक साइकिल पर सवार हो गए थे।

आपको बता दें कि 2017 में सूबे की कमान योगी आदित्यनाथ के हाथ आने के बाद पुलिस ने कई अपराधियों के खिलाफ ऑपरेशन एनकाउंटर चलाया। अतीक की परेशानी भी बढ़ गई थी।
इसके बाद अतीक अहमद को प्रयागराज, बरेली और देवरिया जेल में रखा गया। लेकिन अतीक अहमद का आतंक ऐसा था कि प्रदेश के जेल अधिकारी उसे अपनी जेल में रखने से घबराते थे। इसके बाद 3 जून 2019 को देश की सबसे बड़ी अदालत के आदेश पर अतीक अहमद को गुजरात की साबरमती जेल में शिफ्ट कर दिया गया था। तभी से वो बंद है।