अयोध्या की मुफ्त यात्रा के अरविंद केजरीवाल (arvind kejriwal) के ऐलान पर तंज कसते हुये उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने मंगलवार को कहा कि कोरोनाकाल में उत्तर प्रदेश और बिहार के श्रमिकों को दिल्ली से भगाने वाले दिल्ली के मुख्यमंत्री को चुनाव के समय भगवान राम और यूपी के लोग याद आ रहे हैं।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सामाजिक प्रतिनिधि सम्मेलन को संबोधित करते हुये योगी (Yogi Adityanath) ने कहा कि कोरोना काल में लाकडाउन के दौरान ‘आप’ सरकार ने उत्तर प्रदेश और बिहार के श्रमिकों को दिल्ली से भगाने का काम किया था। कोरोना काल में दिल्ली संभाल नहीं पाये। यूपी और बिहार के लोगों को भगा दिया गया और अब जब चुनाव पास आ रहा है तो इन्हे यूपी याद आ रहा है। उन्होने कहा कि ये लोग पहले राम को गाली देने से भी नहीं चूकते थे मगर आज जब लग रहा है कि राम के बगैर नैया पार होने वाली नहीं है तो राम के दर्शन के लिये अयोध्या (Ayodhya) आ रहे हैं। अच्छी बात है, कम से कम राम के महत्व और अस्तित्व को इन्होने स्वीकार तो किया। अन्यथा विपक्षी दलों को कोई नेता ऐसा नहीं है जिन्होने छह दिसम्बर 1992 को स्वर्गीय बाबू जी (कल्याण सिंह) (Kalyan Singh) को कोसा न हो। कठघरे में खड़ा न किया हो मगर उस समय भी पूरी मजबूती के साथ खड़े रहे थे बाबूजी। 

उन्होंने कहा था कि यदि कोई जिम्मेदारी तय होती है तो कल्याण सिंह (Kalyan Singh) की होनी चाहिये और यह जिम्मेदारी कल्याण सिंह लेने को तैयार है। इस बीच योगी के बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये केजरीवाल ने ट्वीट किया कि दिल्ली मतलब सबको मुफ्त दवाई, बेहतर शिक्षा, बेटियों की सुरक्षा, बुजुर्गों का सम्मान। आज मैंने एलान किया कि दिल्ली के लोगों को कल से अयोध्या तीर्थ यात्रा फ्री कराएंगे। फिर इसे यूपी में भी लागू करेंगे। इस योजना से करोड़ों जनता प्रभु के दर्शन कर पाएगी। योगीजी, इसमें आपको आपत्ति क्यों।