लखनऊ में कांग्रेस कार्यालय में जवाहरलाल नेहरू के पूर्व छात्र कन्हैया कुमार (kanhaiya kumar) पर कथित तौर पर स्याही फेंकी (Ink thrown at Kanhaiya Kumar) गई थी। कांग्रेस नेताओं ने दावा किया कि यह स्याही नहीं बल्कि एक प्रकार का तेजाब था जो कुमार पर फेंका गया था, जो आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों (UP Assembly elections) के प्रचार के लिए शहर में थे। नेताओं ने कहा, आरोपी ने कन्हैया कुमार पर तेजाब फेंकने की कोशिश की, लेकिन ऐसा करने में असफल रहे। हालांकि, कुछ बूंदें पास में खड़े 3-4 युवाओं पर गिरीं।

पार्टी कार्यकर्ताओं ने आरोपी को पकड़ लिया है, लेकिन उसके बारे में अभी कोई जानकारी नहीं दी है। बता दें कि कुमार लखनऊ में कांग्रेस उम्मीदवारों के लिए वोट मांगने के लिए घर-घर जाकर प्रचार करने पहुंचे थे। बता दें कि आरोपी ने कहा कि कन्हैया (Kanhaiya Kumar) देशद्रोही है। इसका प्रोग्राम लखनऊ में क्यों होना चाहिए। जो देश का नही, वो हमारा कैसे हो सकता है। बता दें कि मंगलवार को कांग्रेस मुख्यालय में कार्यक्रम था। लोग कन्हैया का इंतजार कर रहे थे। कार्यक्रम में कन्हैया देरी से पहुंचे। जैसे ही वो मंच की ओर बढ़े, कुछ युवकों के एक समूह ने उनके ऊपर केमिकल जैसा लिक्विड फेंका। इससे अफरा तफरी मच गई। लोग इधर उधर भागने लगे। एक प्रदर्शनकारी को मौके पर ही लोगों ने पकड़ लिया।

वहीं कन्हैया कुमार (Kanhaiya Kumar) ने कहा कि पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) के नेतृत्व में राज्य विधानसभा चुनाव रोमांचक होने वाला है। उन्होंने कहा कि जब से हाथरस, उन्नाव और लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) की घटना हुई है, कांग्रेस न्याय की मांग को लेकर सडक़ों पर उतरी है। जिन्होंने देश बनाया ही नहीं, वे देश बेच रहे हैं। कांग्रेस ने भारत का निर्माण किया है, इसलिए वह ऐसे लोगों से देश को बचा रही है। बता दें कि 2018 में गुजरात के विधायक जिग्नेश मेवाणी (jignesh mevani) और कुमार पर ग्वालियर में एक शख्स ने स्याही फेंकी थी। दोनों अपने संविधान बचाओ विरोध के हिस्से के रूप में चैंबर ऑफ कॉमर्स भवन में एक संगोष्ठी को संबोधित करने के लिए ग्वालियर में थे।