उत्तर प्रदेश (UP Govt) की योगी आदित्यनाथ सरकार ने आखिरकार गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज के बाल रोग विशेषज्ञ डॉ कफील खान (dr. kafeel khan) की सेवाएं समाप्त कर दी हैं। सरकारी प्रवक्ता ने खान की बर्खास्तगी की खबर की पुष्टि की।

कफील खान (Terminates Services of Kafeel Khan) को सात अन्य लोगों के साथ अगस्त 2017 में निलंबित कर दिया गया था, जब बीआरडी अस्पताल (BRD Hospital) में ऑक्सीजन की आपूर्ति में कमी के कारण 60 से अधिक बच्चों की मौत हो गई थी। खान को छोड़कर सात डॉक्टरों को बाद में बहाल कर दिया गया। राज्य सरकार ने बाद में उन पर राज्य में सीएए विरोधी प्रदर्शनों (anti caa protest) के दौरान भड़काऊ भाषण देने के लिए मामला दर्ज किया था।

गुरुवार को कफील खान (Kafeel Khan) ने कहा कि वह औपचारिक टर्मिनेशन ऑर्डर का इंतजार कर रहे हैं। उन्होंने कहा, मैं न्याय के लिए लड़ना जारी रखूंगा और आदेश को अदालत में चुनौती दूंगा। बता दें कि इससे पहले इसी साल अगस्त में राज्य सरकार ने 24 फरवरी 2020 को दिए दोबारा विभागीय जांच के आदेश को वापस ले लिया था। सरकार ने इस मामले में 15 अप्रैल 2019 को जांच अधिकारी की ओर से दायर जांच रिपोर्ट को ही मान लिया था। इस रिपोर्ट में डॉ. कफील खान (Kafeel Khan) को निर्दोष पाया गया था। रिपोर्ट में कहा गया था कि डॉ. कफील खान के खिलाफ भ्रष्टाचार या लापरवाही के सबूत नहीं मिले हैं।