उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों (Uttar Pradesh Assembly Elections) से पहले अब बहुजन समाज पार्टी (बसपा) (BSP) को बड़ा झटका लगा है। दरअसल निलंबित चल रहे विधायक रामवीर उपाध्याय (BSP MLA Ramveer Upadhyay) ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। माना जा रहा है कि रामवीर उपाध्याय उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा (Deputy Chief Minister Dinesh Sharma) के संपर्क में हैं। पिछले दिनों एक सभा में दिनेश शर्मा इनकी तारीफ कर चुके हैं। इनके छोटे भाई मुकुल भाजपा में हैं। वे नजदीकी जिला अलीगढ़ में कोल विधानसभा से टिकट मांग रहे हैं। 

अपने इस्तीफे में लिखी ऐसी बड़ी बात

रामवीर उपाध्याय ने मायवती (Mayawati) को लिखे अपने त्यागपत्र में कहा कि आज बसपा मान्यवर कांशीराम साहब द्वारा बनाये हुए सिद्धान्तों एवं आदर्शों से भटक चुकी है इस कारण में बसपा की सदस्यता से त्याग पत्र देता हूं। उन्होंने लिखा कि मैं साल 1996 से बहुजन समाज पार्टी (BSP) का सक्रिय सदस्य हूं, मैंने हमेशा आपके आदेश के अनुक्रम में पार्टी को ऊंचाईयों पर ले जाने के लिए पूरे प्रदेश में दिन रात कड़ी मेहनत की, जिसके फलस्वरूप साल 2007 में उत्तर प्रदेश (UP election 2017) में बहुजन समाज पार्टी ने पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई, लेकिन सत्ता में रहने के बावजूद भी 2009 के लोकसभा चुनाव, 2012 के विधानसभा चुनाव, 2014 के लोकसभा चुनाव और 2017 के विधानसभा चुनाव में उम्मीद के अनुसार सीट न जीतने पर भी पार्टी की ओर से कोई समीक्षा नहीं की गई, जिसकी मेरे द्वारा समय समय पर मांग की गई थी।


मायावती पर किया बड़ा हमला

उन्होंने (Ramveer Upadhyay) आगे लिखा कि मैंने आपको 2019 के लोकसभा चुनाव में अवगत राया था कि हम इस चुनाव में उम्मीद के अनुसार सीट हासिल नहीं कर रहे हैं, क्योंकि हमारे पास से कैडर वोट भी खिसक रहा है, लेकिन आपने मेरे द्वारा बताई गई सच्चाई को नकारते हुए मुझे पार्टी से निलंबित कर दिया, जिससे मेरी और मेरे समर्थकों की भावनाएं आहत हुईं। उल्लेखनीय है कि उपाध्याय, हाथरस जिले की सादाबाद सीट से विधायक हैं। वह पिछली सरकारों में उत्तर प्रदेश के ऊर्जा, चिकित्सा शिक्षा एवं परिवहन मंत्री रह चुके हैं।