उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव की तैयारियां कर रही राजनीतिक पार्टियां बढ़ चढ़ कर वादे कर रही। इसमें कांग्रेस बहुत सुर्खियों में है, हाल ही में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा  Gandhi Vadra) ने गुस्से में आकर ऐसा बयान दे दिया है जिससे उनको अब पछतावा हो रहा है।
 
दरअसल, प्रियंका ने कहा है कि वह उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों (Uttar Pradesh Assembly Election 2022) के लिए पार्टी (Congress) का एकमात्र चेहरा नहीं हैं। कांग्रेस मुख्यालय पर यूपी चुनाव के लिए युवा घोषणापत्र जारी करने के दौरान जब पत्रकारों ने उनसे पूछा कि यूपी में कांग्रेस की ओर से सीएम का चेहरा कौन होगा तो उन्होंने कहा, क्या आपको उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की तरफ से कोई और चेहरा दिख रहा है?  
बार-बार यही सवाल-

उन्होंने कहा कि ‘‘मेरी पार्टी कहीं-कहीं पर ये तय करती है कि CM का चेहरा कौन बनेगा और कहीं पर तय नहीं करती है, ये पार्टी का तरीका है। मैं ये नहीं कह रही हूं कि मैं ही चेहरा हूं। वो तो मैंने चिढ़ कर कह दिया क्योंकि बार-बार वो ही सवाल पूछे जा रहे हैं ’’।
उन्होंने (Priyanka) कहा कि ‘हम पूरी शक्ति से चुनाव लड़ रहे हैं। विकास, बेरोज़गारी, महंगाई, महिलाओं की सुरक्षा के जिन महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा होनी चाहिए वो मुद्दे मुख्य तौर पर कांग्रेस उठा रही है। कांग्रेस जनता की आवाज़ उठा रही है, आशा है कि इसका नतीजा अच्छा होगा। सभी राजनीतिक दल असलियत को छुपाकर चुनाव के समय ऐसे मुद्दे उठाना चाह रहे हैं जो जज्बाती हैं जैसे जाति, सांप्रदायिकता पर आधारित मुद्दे क्यों​कि वो विकास की बात नहीं करना चाहते हैं. इससे नुकसान सिर्फ जनता और ​फायदा राजनीतिक दलों का होता है’।
प्रियंका गांधी (Priyanka) ने योगी सरकार पर तीखा हमला करते हुए पूछा कि ‘इस सरकार ने बेरोजगारों नौजवानों के लिए क्या किया है? चुनाव आता है तो कहते हैं कि 25 लाख नौकरियां देंगे, कभी ये समझाया है कि रोजगार कहां से आएगा? हमने ये कहा कि हम 20 लाख नौकरियां देंगे, हमने हवा में नहीं कहा। हमने पूरा घोषणापत्र निकाला है। 5 साल से उत्तर प्रदेश में इनकी सरकार है, इनको पिछला महीना ही मिला हवाईअड्डे, हाईवे का उद्घाटन करने और नई इंडस्ट्री लगाने के लिए…क्या इससे पहले इनके पास समय नहीं था? चुनाव के सिर्फ एक महीने पहले आप सब घोषणाएं कर रहे हैं, घोषणाएं करनी हैं तो ठोस तरह से करें’।