धर्मांतरण के आरोप में पकड़े गए मोहम्मद उमर गौतम और जहांगीर आलम के खिलाफ अब गैंगस्टर एक्ट लगाया जाएगा।  इसके साथ ही दोनों आरोपियों के खिलाफ रासुका एक्ट (National Security Act) के तहत कार्रवाई की जाएगी।  सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ की तरफ से इसके निर्देश दे दिए गए हैं।  पुलिस के मुताबिक धर्मांतरण का पूरा काम दिल्ली के जामिया नगर से कंट्रोल किया गया। 

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अब इस पूरे प्रकरण पर एनआईए भी अपनी नजर बनाए हुए है।  धर्मांतरण में विदेशों से हो रही फंडिंग के खुलासे के बाद अब केंद्रीय जांच एजेंसिया सतर्क हो गई हैं।  फिलहाल तो अभी दोनों आरोपियों से एटीएस की टीम पूछताछ कर रही है लेकिन माना जा रहा है कि अब जल्द ही केंद्रीय जांच एजेंसिया भी दोनों से इस मामले में जानकारी लेंगी। 

बताया जा रहा है कि इस मामले में यूपी समेत छह राज्यों के बच्चों को शिकार बनाया गया है।  सूत्रों के मुताबिक नोएडा के जिस मूक बधिर स्कूल के बच्चों को धर्म परिवर्तन के लिए शिकार बनाया गया उसमें उत्तर प्रदेश के बच्चों के साथ साथ हरियाणा, हिमांचल, दिल्ली, उत्तराखंड के छात्र भी शामिल हैं।  अब एटीएस की एक टीम नोएडा पुलिस के साथ मिलकर इस स्कूल के लोगों से भी पूछताछ कर रही है। 

बता दें कि योगी सरकार पिछले वर्ष धर्मांतरण के विरुद्ध नया कानून लेकर आई थी।  ‘उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म संपरिवर्तन प्रतिशेध अधिनियम’ के लागू होने के बाद से यह पहला इतना बड़ा मामला सामने आया है।  ऐसे में तमाम जांच एजेंसिया किसी भी तरह की लापरवाही नहीं बरतना चाहती।  इस पूरे प्रकरण में अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए हैं।