उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कार्यालय में कई अधिकारियों के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद मुख्यमंत्री योगी ने एहतियात के तौर पर आइसोलेशन में रहने का फैसला किया है। इस दौरान वह वर्चुअली निगरानी करते रहेंगे। इस बात की जानकारी खुद मुख्यमंत्री योगी ने ट्वीट करके दी है। 

उन्होंने लिखा कि मेरे कार्यालय के कुछ अधिकारी कोरोना से संक्रमित हुए हैं। यह अधिकारी मेरे संपर्क में रहे हैं, अत: मैंने एहतियातन अपने को आइसोलेट कर लिया है एवं सभी कार्य वर्चुअली प्रारम्भ कर रहा हूं। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव एसपी गोयल ओएसडी अभिषेक कौशिक, विशेष सचिव अमित सिंह सहित कुछ अन्य कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना को लेकर अधिकारियों को युद्ध गति से कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने सख्त निर्देश दिए हैं कि हर हाल में प्रदेश में एल 2 और एल 3 स्तर के बेडों की संख्या में जल्द से जल्द इजाफा करें, यदि निजी संस्थान इस महामारी में असहयोग कर रहे हैं, तो उनके खिलाफ कार्यवाही करें। इसके अलावा उन्होंने एमबीबीएस के चौथे और पांचवें साल के छात्रों की परिक्षाएं निरस्त होने के कारण इनकी ड्यूटी हास्पिटल में लगाने के निर्देश दिए हैं।

इससे पहले मुख्यमंत्री योगी ने आज सुबह सरकारी आवास से कोरोना के प्रभावी रोकथाम को लेकर उच्चाधिकारियों के साथ वर्चुअली समीक्षा बैठक की। योगी ने बेड बढ़ाने के लिए सरकारी संस्थानों, निजी मेडिकल कॉलेजों के अलावा अन्य विकल्पों पर भी कार्यवाही के निर्देश दिए हैं। उन्होंने टेस्ट की क्षमता बढ़ाने के लिए केजीएमयू में 5500 से 1100 और राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में 5000 से एक हजार करने के निर्देश दिए हैं। पूर्व में आगरा, बरेली और नोएडा में संचालित केंद्रीय संस्थाओं की लैब में 12 सौ जांचें रोजाना होती थीं। सीएम योगी ने इनका भी उपयोग करने के निर्देश दिए हैं।

योगी ने कहा कि लखनऊ में एरा, टीएसएम और इंटीग्रल मेडिकल कॉलेज में दो हजार बेड बढ़ाए जा रहे हैं। हालांकि बलरामपुर हास्पिटल में तीन सौ और बेडों की व्यवस्था हो गई है। इसमें 215 बेड आक्सीजन युक्त, 40 बेड वेंटिलेटर युक्त, आज शाम तक 25 और बेड वेंटिलेटर युक्त हो जाएंगे। उन्होंने लखनऊ के कैंसर हास्पिटल को टेकओवर कर तीन सौ बेड में 50 बेड आईसीयू के बनाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने हिंद और मेयो हास्पिटल को भी टेकओवर करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने प्रदेश में ऐसे हास्पिटल और मेडिकल कॉलेजों में एक-एक नोडल अधिकारी तैनात करने के निर्देश दिए हैं, ताकि इनकी देखभाल में लोगों को सुचारू उपचार मिलता रहे। उन्होंने कानपुर में रामा मेडिकल कॉलेज को टेक ओवर करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही प्रयागराज में यूनाईटेड हास्पिटल को टेकओवर करने के निर्देश दिए हैं। यहां अतिरिक्त रूप से सौ और बेड की व्यवस्था हो गई है।