महाराष्ट्र में कोरोना की स्थिति देखते हुए सरकार ने लॉकडाउन खोलने का फैसला लिया है। उद्धव सरकार ने लॉकडाउन के दौरान लगी पाबंदियों में छूट देने का ऐलान किया है। राज्य में तमाम जिलों में कोरोना पॉजिटिविटी रेट और ऑक्सिजन बेड की उपल्बधता के हिसाब से ढील लॉकडाउन में दी जाएगी। इन जिलों में कोरोना के मामले बढ़ते दिख रहे हैं वहां लॉकाडाउन में सख्ती होगी और जहां कोरोना की दर कम है वहां ढील दी जाएगी।


वरिष्ठ कांग्रेसी नेता राज्य के आपदा प्रबंधन मंत्री विजय वड्डेटीवार के राज्य के अनलॉक होने की घोषणा के कुछ ही देर बाद राज्य सरकार के जनसंपर्क विभाग ने एक बयान जारी कर कहा था कि ये आखिरी फैसला नहीं है। कोरोना घात लगाए खड़ा है। हमें सावधानी रखनी हैं। सरकार की ओर से शहरों और ज़िलों को पांच अलग-अलग लेवल में रखा गया है।

पहले चरण में जिन जिलों को अनलॉक किया जाएगा, उनमें अहमदनगर, भंडारा, बुलढाणा, चंद्रपुर, धुले, गोंदिया, जलगांव, जालना, लातूर, नागपुर, नांदेड़, ठाणे और वर्धा है। सरकारी आदेशानुसार राजधानी मुंबई को भी अलग-अलग उपनगरीय क्षेत्र के हिसाब से अलग-अलग लेवल में रखा जाएगा।

सरकार द्वारा बनाई गई रणनीति के मुताबिक लेवल 1 में मॉल, मल्टीप्लेक्स, थिएटर्स, नाट्यगृह, रेस्टोरेंट शुरू किए जाएंगे. लोकल सेवा के लिए स्थानीय प्रशासन या आपदा प्रबंध विभाग तय करेगा। सार्वजनिक मैदान खुलेंगे, वाकिंग साइकलिंग को इजाजत, 100% क्षमता से सरकारी कार्यालय खुलेंगे, स्पोर्ट्स, शूटिंग, सामाजिक-सांस्कृतिक कार्यक्रमों को इजाजत रहेगी, शादी समारोह, जिम, सलून, स्पा-ब्यूटी पार्लर को खोलने की इजाजत होगी. सार्वजनिक परिवहन शुरू होंगे।