देशभर में भाई-बहन के प्यार का त्योहार रक्षाबंधन 3 अगस्त को मनाया जा रहा है। लेकिन इस बार रक्षाबंधन का त्योहार कोरोना के कारण बिल्कुल अलग रहेगा। फिर भी भाई-बहन दूर नही रहेंगे। नोएडा के शारदा अस्पताल में कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए रक्षाबंधन पर एक खास इंतजाम किया गया है। अस्पताल में करीब 95 कोरोना संक्रमित मरीज हैं, जिनमें करीब 30 महिला मरीज और 60 पुरुष मरीज हैं। 

शारदा अस्पताल प्रशासन रक्षाबंधन के दिन सभी मरीजों को हर साल की तरह इस साल भी त्योहार मनाने का मौका दिलाएगा। अस्पताल प्रशासन बहनों द्वारा भेजी जाने वाली राखियों को संक्रमितों तक पहुंचाएंगे। वहीं वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के जरिए बात भी कराई जाएगी। शारदा अस्पताल की किचन में डाइटीशियन की देखरेख में मिठाइयां बनवाई जा रही हैं। वहीं वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के लिए एक कैमरा भी तैयार किया गया है। इसमें एक स्क्रीन लगाई गई है, जिसके जरिये मरीज अपने भाई-बहनों से बात भी कर सकेंगे। अस्पताल प्रशासन ने 80 राखियों का इंतजाम किया है।

हालांकि अस्पताल प्रशासन की तरफ से सभी डॉक्टरों और पैरा मेडिकल स्टाफ भी संक्रमित मरीजों के साथ रक्षाबंधन का त्योहार मनाएंगे, वहीं महिला मरीजों से राखी बंधवाएंगे और फिर स्वास्थ्यकर्मियों द्वारा महिला मरीज को गिफ्ट भी दिया जाएगा। अगर किसी की बहन या भाई अपनी तरफ से राखी बांधना या बंधवाना चाहते हैं तो अस्पताल प्रशासन उनसे राखी लेकर उनके भाई-बहनों को दे देगा।

शारदा अस्पताल के प्रवक्ता डॉ. अजीत कुमार ने बताया, 'रक्षाबंधन पर राखी संक्रमितों तक पहुंचाने का इंतजाम किया गया है। अगर कोई राखी भेजेगा तो उसे मरीज तक पहुंचाया जाएगा। संक्रमित के चाहने पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये बहन से बात भी कराई जाएगी।'