रूस और यूक्रेन के बीच 10 से लगातार युद्ध चल रहा है। अब रूसी सैनिकों ने राजधानी कीव पर हमले तेज कर दिए हैं। आज सुबह से कीव में हमले के सायरन की आवाजें आ रही हैं। आम नागरिकों ने हमले से बचने के लिए बंकरों का सहारा ले लिया है। इस बीच बड़ी खबर सामने आई है। यूक्रेन की सरकार ने दावा किया है कि रूस से आर-पार की जंग के लिए यूक्रेनी विदेश से लौट रहे हैं। इनकी संख्या 66 हजार से ज्यादा हो सकती है।

यह भी पढ़ें : मणिपुर में Th. Radheshyam Singh के घर भोजन करके गदगद हुए अमित शाह, थाली देखकर मुंह में आ जाएगा पानी

रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध अब निर्णायक मोड़ में है। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के इरादों से स्पष्ट है कि अब यूक्रेन में जंग ज्यादा दिन नहीं रहने वाली। रूसी सैनिकों ने राजधानी कीव समेत देश के सभी बड़े शहरों में हवाई हमले तेज कर दिए हैं। वहीं, यूक्रेन सरकार भी शुरुआत से रूसी सैनिकों को कड़ी टक्कर दे रही है। यूक्रेन के बहादुर सैनिक रूसी सैनिकों को लोहे के चने चबवा रही है। इस बीच यूक्रेन से बड़ी खबर सामने आई है। ऐसा दावा किया जा रहा है कि रूस के सैनिकों से आर-पार की लड़ाई के लिए यूक्रेनी विदेशों से वापस लौट रहे हैं। 

यूक्रेन के रक्षा मंत्री ओलेक्सी रेजनिकोव ने दावा किया है कि आम यूक्रेनी जो रूसी हमलों के कारण विदेशों का रुख कर चुके हैं, वे वापस लौट रहे हैं। इनकी संख्या 66 हजार से ज्यादा बताई जा रही है। इनका मकसद रूसी सैनिकों से आर-पार की लड़ाई करना है। गौरतलब है कि इससे पहले भी कई दफा यूक्रेनी सरकार आम लोगों से जंग में साथ देने की अपील कर चुकी है। इसके लिए बाकायदा सरकार ने आम यूक्रेनियों के लिए सेना भर्ती में उम्र सीमा की बाध्यता हटा दी है।

यह भी पढ़ें : अरुणाचल में है दुनिया का सबसे ऊंचा प्राकृतिक शिवलिंग, आकार देखकर दंग रह जाते हैं लोग

शहर के बाद अब गांव में भी रूस ने हमला करना शुरू कर दिया है। जानकारी के मुताबिक दक्षिण पश्चिम यूक्रेन के गांवों में रूस ने हवाई हमला किया जिसमें कम से कम 6 लोगों की जान चली गई।

रूस ने शनिवार को यूक्रेन में नागरिकों को निकालने के लिए मानवीय गलियारे खोलने के लिए संघर्ष विराम की घोषणा की है। स्पुतनिक समाचार एजेंसी ने रूसी रक्षा मंत्रालय का हवाला देते हुए कहा, "आज (5 मार्च) सुबह 10 बजे से रूसी पक्ष ने संघर्ष विराम की घोषणा की है। मारियुपोल और वोल्नोवाखा से नागरिकों के बाहर निकलने के लिए मानवीय गलियारे खोले हैं।"