यूक्रेन ने रूस को एक बड़ा झटका देते हुए राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की की हत्या के लिए भेजे गए बर्बर चेचन विशेष बलों की एक बड़ी टुकड़ी को कथित तौर पर मार गिराया है। डेली मेल ने यह जानकारी दी है। चेचेन का यह सशस्त्र समूह अपनी बर्बर हिंसा और मानवाधिकारों के हनन के लिए कुख्यात है और 56 टैंकों के उनके काफिले को कीव के उत्तर-पूर्व में होस्टोमेल के पास युद्ध के दूसरे दिन यूक्रेनी मिसाइल ने उड़ा दिया गया था। रिपोर्ट में कहा गया है कि यह स्पष्ट नहीं है कि ऐसे कितने सैनिक मारे गए है लेकिन उनकी संख्या सैकड़ों में रहने की संभावना है।

रूस यूक्रेन युद्ध के बीच 500 रूपये के नोट ने मचाया तहलका, जानकर आपको भी लगेगा झटका

यूक्रेनी मिसाइल हमले में जिन लोगों के मारे जाने की रिपोर्टे हैं उनमें चेचन जनरल मैगोमेद तुशेव भी थे। डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार वह 141वीं मोटराइज्ड नेशनल गार्ड ब्रिगेड के कमांडर थे। यह चेचन राज्य प्रमुख रमजान कादिरोव का विशेष बल माना जाता है। डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार, तुशैव को एक तस्वीरों में कादिरोव के साथ दिखाया गया गया था जो चेचन सरकार के लिए उनके महत्व को दर्शाता है और कादिरोव समलैंगिक पुरुषों को प्रताडि़त करने और मारने के लिए कुख्यात हैं। माना जाता है कि कादिरोव ने उनकी कथित मौत से एक दिन पहलेयूक्रेनी जंगल में अपने स्क्वाड्रन का दौरा किया था।

रूस यूक्रेन युद्ध के बीच PM मोदी का जलवा! इटली से ले आए ये नायाब चीज

यूक्रेन मिसाइल हमले में इन लोगों का मारा जाना रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के यूक्रेन पर विजय प्राप्त करने की योजना पर एक मनोवैज्ञानिक आघात हैं। डेली मेल ने बताया कि रूसी राष्ट्रपति ने यूक्रेनी राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की को पकडऩे या मारने के लिए इस समूह को भेजा था। वह इस बात से अच्छी तरह वाकिफ थे कि इससे यूक्रेन की रक्षा के लिए अपनी जान गंवाने का जज्बा रखने वाले यूूक्रेनी लोगों के दिल में एक जोरदार भय व्याप्त हो जाएगा।