यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमीर जेलेंस्की ने उच्च पदस्थ दो अधिकारियों को बर्खास्त कर दिया है, जिनमें सुरक्षा विभाग के प्रमुख भी शामिल हैं। इन अधिकारियों के नेतृत्व कौशल पर भी सवाल उठाया गया है और साथ ही रूस का साथ देने के लिए उन पर देशद्रोह के भी आरोप लगाए गए हैं। 

ये भी पढ़ेंः देश में अब तक 200 करोड़ से ज्यादा लगी कोरोना वैक्सीन, फिर भी इतने लोगों की हो गई मौत, देखें आंकड़ें


राष्ट्रपति जेलेंस्की ने अपने एक वीडियो संदेश में कहा, आज मैंने अभियोजक जनरल को पद से हटाने और यूक्रेन की सुरक्षा सेवा के प्रमुख को बर्खास्त करने का निर्णय लिया है। बर्खास्त किए गए अधिकारियों में सुरक्षा प्रमुख इवान बाकानोव और अभियोजक जनरल इरीना वेनेडिक्टोवा शामिल हैं। राष्ट्रपति ने कहा कि अभियोजक कार्यालय, पूर्व-परीक्षण जांच निकायों और अन्य कानून प्रवर्तन एजेंसियों के कर्मचारियों की देशद्रोह और सहयोग गतिविधियों के संबंध में आज तक 651 आपराधिक मामले दर्ज किए गए हैं। 

ये भी पढ़ेंः सावधानः भारी बारिश के लिए रहें तैयार, मुख्यमंत्री भी अलर्ट मोड पर, जारी किए ऐसे आदेश


उन्होंने कहा, यूक्रेन में सुरक्षा बलों के कर्मचारियों और रूस की विशेष सेवाओं के बीच संबंधों का पता लगाया गया है। इस तरह के अपराध राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए बेहद खतरनाक है। यह संबंधित नेतृत्वों पर गंभीर सवाल खड़े करता है और इसके हर एक सवाल का प्रासंगित जवाब चाहिए। उन्होंने इस दौरान बताया कि क्रीमिया में सुरक्षा सेवा के मुख्य निदेशालय के पूर्व प्रमुख को भी देशद्रोह के संदेह में हिरासत में लिया गया है। राष्ट्रपति ने बताया, रूस के हित में काम करने वाला हर कोई आपराधिक समूह का हिस्सा है और उन सभी को जवाबदेह ठहराया जाएगा। यह दुश्मन को खुफिया जानकारी उपलब्ध कराने और रूसी विशेष सेवाओं के साथ सहयोग करने के बारे में है।