रूस को यूक्रेन से युद्ध करना भारी पड़ा है क्योंकि उसके 10000 से ज्यादा सैनिक मारे जा चुके हैं। इसके अलावा अभी रूस और यूक्रेन के बीच पिछले 9 दिनों से युद्ध जारी है। इसमें दोनों देशों की सेनाओं को इस युद्ध में भारी नुकसान हो रहा है। एक तरफ यूक्रेन की धरती रूसी मिसाइली हमलों से छलनी हो रही है वही, दूसरी ओर यूक्रेन पर हमले को लेकर रूस को भी भारी नुकसान हो रहा है। यूक्रेन ने दावा किया कि रूस भी युद्ध की मार झेल रहा है, उसके 10 हजार से ज्यादा सैनिकों की मौत हो चुकी है। 

यह भी पढ़ें : मणिपुर में Th. Radheshyam Singh के घर भोजन करके गदगद हुए अमित शाह, थाली देखकर मुंह में आ जाएगा पानी

यूक्रेन और रूसी सैनिकों के बीच युद्ध के दसवें दिन भी संघर्ष जारी है। दोनों देशों की सेनाओं को भारी नुकसान हुआ है। यूक्रेन की सरकार ने दावा किया है कि इस युद्ध में रूस को भी काफी नुकसान हो रहा है। अब तक 10 हजार से ज्यादा रूसी सैनिक इस युद्ध में मारे जा चुके हैं। इतना ही नहीं रूस के हथियारों को भी नष्ट किया जा रहा है। इन हथियारों में 40 हेलिकॉप्टर्स, 269 टैंक, 39 मिल‍िट्री प्‍लेन, 60 ईंधन टैंक, 2 नाव और अन्‍य हथियार शामिल हैं।

रूस के साथ जारी जंग के बीच यूक्रेन ने पश्चिमी देश जर्मनी से हथियार मांगे हैं। यूक्रेन सरकार ने जर्मनी से मांग की है कि रूसी सैनिकों से लड़ने के लिए उन्हें हथियारों की जरुरत है, इसलिए उन्होंने जर्मनी से इस मामले में मदद मांगी है।

यह भी पढ़ें : अरुणाचल में है दुनिया का सबसे ऊंचा प्राकृतिक शिवलिंग, आकार देखकर दंग रह जाते हैं लोग

रूस ने शनिवार को यूक्रेन में नागरिकों को निकालने के लिए मानवीय गलियारे खोलने के लिए संघर्ष विराम की घोषणा की है। स्पुतनिक समाचार एजेंसी ने रूसी रक्षा मंत्रालय का हवाला देते हुए कहा, "आज (5 मार्च) सुबह 10 बजे से रूसी पक्ष ने संघर्ष विराम की घोषणा की है। मारियुपोल और वोल्नोवाखा से नागरिकों के बाहर निकलने के लिए मानवीय गलियारे खोले हैं।"