मॉस्को। रूस और यूक्रेन के बीच दो महीनों से जारी भीषण युद्ध में यूक्रेन के साथ रूस को भी भारी नुकसान पहुंचा है। युद्ध में रूस के 21 हजार सैनिक, 408 तोपें, 873 टैंक बर्बाद हो चुके हैं। इस युद्ध में उसके 21 हजार सैनिक मारे जा चुके हैं। वहीं यूक्रेन अब मलबे का एक ढेर बन चुका है। यूक्रेनी सेना का दावा है कि अब तक रूस के 21,000 से अधिक सैनिक लड़ाई में मारे जा चुके हैं। यह आंकड़ा यूक्रेनी थल सेना ने जारी किया है।

यह भी पढ़े : Jahangirpuri Iftar Party: जहांगीरपुरी में हिंदुओं और मुसलमानों में दिखा शांति और सौहार्द, आज दोनों समुदाय करेंगे इफ्तार पार्टी

हाल ही में रूस को सबसे बड़ा झटका तब लगा जब 'सेना की शान' कहा जाने वाला युद्धपोत मोस्कवा बुरी तरह क्षतिग्रस्त होने के बाद काला सागर में डूब गया। डेलीमेल की खबर के अनुसार यूक्रेनी सेना के आंकड़े बताते हैं कि अब तक 21,800 रूसी सैनिक यूक्रेन में मारे जा चुके हैं। हालांकि इस आंकड़े की पुष्टि नहीं हो सकी है। युद्ध में रूसी सैन्य उपकरणों और मशीनरी को भारी नुकसान पहुंचाने का दावा किया जा रहा है।

आंकड़ों के मुताबिक रूस के कुल 873 टैंक, 2238 बख्तरबंद गाड़ियां, 179 विमान, 154 हेलिकॉप्टर और 408 तोपें अब तक नष्ट की जा चुकी हैं। 24 फरवरी को कीव की तरफ बढ़ रही पुतिन की आक्रामण सेना अब रक्षात्मक मुद्रा में आ गई है और मार्च के आखिर में कीव से रूसी सैनिक पीछे हट गए हैं। रूसी सेना अब डोनबास क्षेत्र पर कब्जा करना चाह रही है। युद्ध में भारी नुकसान झेलने के बाद पुतिन अपनी रणनीति में बदलाव करने के लिए मजबूर हुए हैं।

यह भी पढ़े : VASTU TIPS: घर में आईना लगवाते समय उसकी दिशा का विशेष ख्याल रखें, इस दिशा में लगाने से बचें


दो महीने पहले जब यह जंग शुरू हुई थी तो रूस के 280,000 सैनिकों के सामने यूक्रेन के सिर्फ 125,600 सैनिकों वाली छोटी सेना थी। हाल ही में यूक्रेन ने दावा किया है कि उसने नेपच्यून क्रूज मिसाइल और तुर्की के बायरकतार टीबी-2 ड्रोन की मदद से रूसी क्रूजर मोस्कवा को डूबो दिया, हालांकि रूस ने इससे इनकार किया है। रूसी नौसेना का गाइडेड मिसाइल क्रूजर मोस्कवा काला सागर बेड़े का सबसे शक्तिशाली युद्धपोत था।