कीव। यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा (Ukraine's Foreign Minister Dmitro Kuleba) ने कहा कि रूसी हमले में जपोरिज्जिया परमाणु ऊर्जा संयंत्र (Zaporizhzhya Nuclear Power Plant) में शुक्रवार को आग लग गई। उन्होंने ट्वीट किया, 'रूसी सेना यूरोप के सबसे बड़े परमाणु ऊर्जा संयंत्र, जपोरिज्जिया एनपीपी पर हर तरफ से गोलीबारी कर रही है। आग पहले ही भड़क चुकी है। अगर इसे रोका नहीं गया, तो यह चर्नोबिल से 10 गुना बड़ा होगा। रूसियों को तुरंत आग को बंद करना चाहिए, अग्निशामकों को अनुमति देना चाहिए।'

यह भी पढ़ें- रूस यूक्रेन युद्ध के बीच पुतिन की बेटी के पीछे पड़ी दुनिया, खू​बसूरती देख दीवाने हुए लोग

एनरगोडार दिमित्रो ओरलोव (Energodar Dmitro Orlov) के मेयर ने भी आग लगने की पुष्टि की। मेयर ने कहा, 'यूरोप में सबसे बड़े परमाणु ऊर्जा संयंत्र की इमारतों और ब्लॉकों के दुश्मन द्वारा भारी गोलाबारी के परिणामस्वरूप, जपोरिज्जिया परमाणु ऊर्जा संयंत्र में आग लग गई है।'' 

उन्होंने इसे विश्व सुरक्षा के लिए खतरा बताते हुए कहा, 'मैं इसे तुरंत रोकने की मांग करता हूं। जपोरिज्जिया पावर प्लांट पर गोलाबारी बंद करो।'

यह भी पढ़ें- ये हैं रूस के चार जिगरी दोस्त देश, हर समय कुछ भी करने को रहते हैं तैयार

यूक्रेन को अब नाटो ने दिया झटका

जर्मन चांसलर ओलाफ स्कोल्ज ने गुरुवार को कहा कि नाटो की यूक्रेन में मिसाइल तैनात करने की कभी कोई योजना नहीं थी। स्कोल्ज ने गुरुवार देर रात जेडडीएफ ब्रॉडकास्टर को बताया, 'वह (रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन) यूक्रेन में मिसाइलों को तैनात करने की नाटो की योजना को लेकर चिंतित थे, जो मॉस्को को निशाना बना सकती थीं लेकिन किसी की भी ऐसी योजना नहीं थी।'

जर्मन चांसलर ओलाफ स्कोल्ज ने कहा कि यूक्रेन को हथियारों की आपूर्ति करने का निर्णय सही कदम है। उन्होंने कहा, 'यूक्रेन पर (रूसी) हमले के कारण हम इस फैसले को सही मानते हैं।'