फिलीस्तीन पर हमले को लेकर अब UAE ने भी खोला Israel मोर्चा खोल दिया है जिसके तहत उसने धमकी दी है। गौरतलब है कि यरुशल में अल-अक्सा मस्जिद से झड़प के बाद से जारी हिंसा के बीच दुनियाभर के मुस्लिम देश फिलिस्तीनियों के साथ एकजुटता प्रदर्शित कर रहे हैं। इजरायल और फिलिस्तीन के बीच हिंसक टकराव को लेकर आज मुस्लिम देशों के संगठन ऑर्गेनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कॉपरेशन (OIC) के सदस्यों की अहम बैठक है। सऊदी अरब के अनुरोध पर इस संगठन के 57 मुस्लिम सदस्य देश मीटिंग में शामिल हो रहे हैं। इस बीच, संयुक्त अरब अमीरात (UAE) के विदेश मंत्री ने इजरायल-फिलिस्तीनी हिंसा के बढ़ने पर अपने देश की चिंता जाहिर की है।

शांति बहाली के लिए संयुक्त अरब अमीरात ने संघर्षविराम और एक राजनयिक वार्ता शुरू करने का आह्वान किया है। यूएई ने पिछले साल हुए उस समझौते का भी हवाला दिया है जिसमें इजरायल के साथ कुछ अरबों देशों ने अपने रिश्ते को औपचारिक रूप देने के लिए अमेरिका के नेतृत्व में करार किए थे।

सरकारी समाचार एजेंसी डब्ल्यूएएम के मुताबिक यूएई के विदेश मंत्री शेख अब्दुल्ला बिन जायद अल नाहयान ने इस टकराव में जान गंवाने वाले लोगों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है। साथ ही उन्होंने पिछले साल सितंबर के एक समझौते के वादे का हवाला देते हुए इजरायल से शांति बहाल करने की अपील की है।

असल में, संयुक्त अरब अमीरात, बहरीन, मोरक्को और सूडान जैसे मुस्लिम देशों ने इजरायल के साथ करार पर हस्ताक्षर किए हैं। इजरायल और इन इस्लामिक देशों के बीच इस समझौते को अब्राहम एकॉर्ड्स के नाम से जाता है। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मौजूदगी में वॉशिंगटन में 15 सितंबर 2020 को यूएई, बहरीन और इजरायल के बीच यह करार हुआ था। अब इसी समझौते का हवाला देते हुए संयुक्त अरब अमीरात ने इजरायल से शांति बहाली और संघर्ष विराम करने से अपील की है।

रॉयटर्स के मुताबिक यूएई के विदेश मंत्री शेख अब्दुल्ला बिन जायद अल नाहयान ने कहा, 'संयुक्त अरब अमीरात, इजरायल और फिलिस्तीन में बढ़ती हिंसा से चिंतित है। हम इस संघर्ष के सभी पीड़ितों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करते हैं, और हिंसा और शत्रुता को तत्काल समाप्त करने के आह्वान में दूसरों के साथ शामिल होते हैं।'

बिन जायद अल नाहयान ने कहा, 'यूएई सभी पक्षों से संघर्षविराम के लिए तत्काल कदम उठाने, राजनीतिक बातचीत शुरू करने और अधिकतम संयम बरतने का आह्वान करता है।'

इजरायल और फिलिस्तीन में तनाव को कम करने के सभी प्रयासों के लिए अपने देश के समर्थन की पेशकश करते हुए, यूएई के विदेश मंत्री ने कहा, "अब्राहम एकॉर्ड्स के करार के मुताबिक हमें वर्तमान और भविष्य की पीढ़ियों के लिए अपने पड़ोसियों के साथ शांति, सम्मान और समृद्धि के वादों को निभाना चाहिए।"

शांति बहाली के मुस्लिम देशों के प्रयासों के बीच विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने फिलिस्तीनियों के अधिकारों और उनके न्यायपूर्ण संघर्ष के लिए पाकिस्तान के समर्थन को दोहराया है।

फिलिस्तीनी विदेश मंत्री डॉ. रियाद अल मलिकी के साथ टेलीफोन पर बातचीत में शाह महमूद कुरैशी ने अल-अक्सा मस्जिद में नमाजियों पर हमले, गाजा पर लगातार हवाई हमले की निंदा की जिसमें बच्चों सहित 100 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है।

शाह महमूद कुरैशी ने फिलिस्तीनी विदेश मंत्री को मानवाधिकारों और अंतरराष्ट्रीय कानून के उल्लंघन पर अंतरराष्ट्रीय समुदाय को सामने आने के लिए पाकिस्तान के प्रयासों के बारे में जानकारी दी। इससे पहले, पाकिस्तान के विदेश मंत्री सऊदी अरब से बातचीत में फिलिस्तीनियों के पक्ष में खड़े होने के अपने संकल्प को दोहराया था।