जम्मू-कश्मीर के कुपवाडा जिले में अल बदर आतंकवादी समूह में नए भर्ती किए गए दो आंतकवादियों और उनके तीन मददगारों को हथियार और गोलाबारूद के साथ गिरफ्तार किया गया। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने खुफिया सूचना का पता चलने के बाद यह जानकारी दी। 

इसके बाद बारामूला-हंदवाडा राजमार्ग के काचलू चौक पर पुलिस, 32 राष्ट्रीय राइफल्स और केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल की 92 बटालियन ने एक जांच चौकी स्थापित की। सुरक्षा बलों ने मोटरसाइकिल पर आ रहे दो और लोगों को जांच के लिए रुकने का संकेत दिया। तीनों ने मौके से फरार होने का प्रयास किया लेकिन तलाश दल ने उन्हें पकड़ लिया। तीनों की पहचान मोहम्मद यासीन रादेर, शौकत अहमद गनई और गलाम बनी रादेर के रूप में हुई है। तीनों को तुरंत हिरासत में ले लिया गया। 

आतंकवादियों की तलाशी के दौरान उनके पास से हथियार, गोला-बारूद और अल बदर का लेटर पैड बरामद किया गया है। पूछताछ के दौरान यह सामने आया कि तीनों अलबदर आतंकवादी समूह के मददगार है। आरोपी आतंकवादियों को रसद समर्थन, भोजन और आश्रय प्रदान कर रहे थे। उन्होंने कहा कि तीनों आरोपियों ने आतंकवादियों के लिए मददगार नेटवर्क बनाने में सहायता करना भी कबूल किया है। वह उनके आवागमन के लिए सुरक्षित मार्गों की पहचान करते थे। 

क्रालगुंड पुलिस थाने में मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस पूछताछ में तीन आरोपियों ने बताया कि वह दो अन्य लोगों को जानते हैं, जो हाल ही में आतंकवादी समूह में भर्ती हुए हैं और हंदवाडा इलाके से आतंकवादी गतिविधियों को संचालित करते हैं। उन्होंने कहा कि इसके बाद 21 आरआर के साथ पुलिस ने बदरकली के वन क्षेत्र में एक घेराबंदी और तलाश अभियान शुरू किया। तलाश अभियान के दौरान दो लोगों को गिरफ्तार किया गया और उनके पास से हथियार और गोलाबारूद बरामद किए गए हैं।

 आंतकवादियों की पहचान सलीम यूसुफ रादेर और इकबाल अहमद शेख के रूप में हुई है। दोनों हाल ही में आतंकवादी समूह में शामिल हो गए थे और क्षेत्र में हिंसा पैदा करने के लिए सुरक्षा बलों के प्रतिष्ठानों, पंच और सरपंचों पर हमला करने की योजना बना रहे थे। सभी आरोपियों से पूछताछ की जा रही है और आगामी दिनों में और अधिक लोगों को गिरफ्तार किया जा सकता है।