पाकिस्तान में सिखों पर अत्याचार रूकने का नाम ले रहे हैं। हाल ही में इस देश के उत्तर-पश्चिमी शहर पेशावर में अज्ञात हमलावरों ने सिख समुदाय के दो लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी। मारे गए लोगों की पहचान कुलजीत सिंह (42) और रंजीत सिंह (38) के रूप में हुई है। स्थानीय पुलिस के मुताबिक ये दोनों दुकानदार थे जो सरबंद इलाके के बाटा ताल बाजार में मसाले बेचते थे।

आपको बता दें कि पाकिस्तान के पेशावर में पिछले आठ महीने में सिख समुदाय पर इस तरह का ये दूसरा हमला है। पिछले साल सितंबर में पेशावर में एक प्रसिद्ध सिख ‘हकीम’ की अज्ञात बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। पेशावर में लगभग 15,000 सिख रहते हैं। ये सिख ज्यादातर प्रांतीय राजधानी के पड़ोस जोगन शाह में है। पेशावर में सिख समुदाय के अधिकतर सदस्य व्यवसाय से जुड़े हैं, जबकि कुछ फार्मेसियां ​​भी चलाते हैं।

यह भी पढ़ें : असम सरकार का युवाओं को दिया शानदार तोहफा, 11 सरकारी विभागों में लगभग 23,000 जॉब्स का सौंपा नियुक्ति पत्र

शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने इस हत्या की कड़ी निंदा की है। एसजीपीसी के अध्यक्ष अधिवक्ता एस। हरजिंदर सिंह ने कहा कि अल्पसंख्यकों की इस तरह की हत्याएं पूरी दुनिया और खास कर सिखों के लिए बेहद चिंता का विषय है। उन्होंने कहा, ‘हम पेशावर, खैबर पख्तूनख्वा, पाकिस्तान में दो सिखों की कायरतापूर्ण हत्याओं की कड़ी निंदा करते हैं। दोनों देशों की सरकारों को पाकिस्तान में रहने वाले अल्पसंख्यक सिखों के जीवन और संपत्ति की सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए।’

यह भी पढ़ें : त्रिपुरा में बिप्लब देब के अचानक इस्तीफे पर शुरू हुआ राजनीतिक घमासान, CPI (M) ने बताया 'अहंकार और तानाशाही रवैया'

विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो जरदारी ने पेशावर में सिख नागरिकों की हत्या की निंदा और चिंता व्यक्त की है। उन्होंने कहा है कि सिख नागरिकों की हत्याओं में शामिल आरोपियों को तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि किसी को भी धार्मिक सद्भाव को बिगाड़ने की अनुमति नहीं दी जाएगी।