चीन के वुहान शहर में चमगादड़ और पेंगोलिन से कोराना वायरस फैलने की अब भी पुष्टि नहीं हो सकी है, लेकिन इस बीच कोविड-19 नोवेल कोरोना वायरस ने जानवरों को भी संक्रमित करना शुरू कर दिया है। अमरीका का न्यूयॉर्क शहर इस समय कोरोना प्रकोप का केन्द्र बना हुआ है। 

दो हफ्ते पहले यहां के जू में एक तीन वर्षीय बाघिन में कोरोना वायरस के होने की पुष्टि हुई थी। इसके बाद हाल ही में शहर की दो पालतू बिल्लियों में भी कोरोनो वायरस का परीक्षण पॉजिटिव आया है। अमरीका के पशु एवं कृषि विभाग और रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र ने भी इसकी पुष्टि की है। दोनों बिल्लियों में सांस लेने में परेशानी के लक्षण दिखाई देने पर इनकी जांच की गई थी। इनमें से एक बिल्ली का मालिक भी कोरोना पॉजिटिव है, जबकि दूसरी बिल्ली के मालिक का भी कोरोना परीक्षण करवाया गया है। 

अमरीका में 8 लाख से ज्यादा पालतू पशु रहते हैं, जबकि कोरोनासे अब तक देश में 45 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। लेकिन अमरीकी चिकित्सा विभाग का कहना है कि अब भी इस बात के पुख्ता प्रमाण नहीं हें कि यह वायरस जानवरों से इंसानों में फैलता है। लेकिन कुछ विशेषज्ञ कोरोना के बढ़ते मामलों में पालतू जानवरों के मालिकों और जानवरों के संपर्क में आने वाले लोगों के पॉजिटिव होने पर सवाल उठाते हैं। वहीं अन्य देशों में भी कुछ पालतू जानवर कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इनमें हांगकांग और बेल्जियम में एक-एक पालतू बिल्ली और दो श्वान शामिल हैं। श्वानों में वायरस के लक्षण नहीं दिखे, लेकिन बिल्लियों में ये लक्षण स्पष्ट थे। 

ऐसे ही चीन के वुहान में 102 आवारा और आश्रयस्थलों में रहने वाले जानवरों में से 15 फीसदी में रक्त के नमूनों वायरस पाया गया था। यहां भी प्रयोगशाला में ऊदबिलाव और बिल्लियों में वायरस बेहद गंभीर था और दोनों ही इंसानों की तरह प्रतिक्रिया कर रहे थे। जबकि कुत्तों में वायरस का असर न के बराबर था वहीं सूअर, मुर्गियां और बतख बिल्कुल भी संक्रमित नहीं हुए थे। अध्ययन में केवल बिल्लियों में ही बीमारी के लक्षण नजर आए। वहीं बिल्लियां एक-दूसरे को भी संक्रमित करने में सक्षम थीं। इसलिए अगर आपके घर में भी पालतू बिल्ली है तो उसे मास्क लगाएं, इम्यूनिटी बढ़ाने वाले टीके लगवाएं और खुद भी सावधानी बरतें।