नेपाल सरकार अब ईंधन खपत में कटौती के लिए 15 मई से सप्ताह में दो दिन सार्वजनिक अवकाश देगी। देश में हाल के महीनों में ईंधन की कीमतें काफी बढ़ गई हैं और सरकार इसकी खपत में कटौती करना चाहती है। संचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री ज्ञानेंद्र बहादुर कार्की ने संवाददाताओं से कहा, 26 अप्रैल को हुई कैबिनेट की बैठक में 15 मई से प्रभावी एक सप्ताह में दो दिवसीय सार्वजनिक अवकाश लागू करने का निर्णय लिया गया।

ये भी पढ़ेंः वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, क्रिप्टोकरेंसी को लेकर जल्दबाजी में नहीं है सरकार, RBI भी जारी करेगा डिजिटल करेंसी


वर्तमान में, नेपाल शनिवार को एक सप्ताह में एक दिन का सार्वजनिक अवकाश लागू कर रहा है, नया नियम रविवार को एक अतिरिक्त छुट्टी के रूप में जोड़ता है। कैबिनेट के फैसले के अनुसार, पांच दिन के काम के घंटे को मौजूदा कार्यालय समय सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक, सुबह 9.30 बजे से शाम 5.30 बजे तक पुनर्निर्धारित किया जाएगा। इससे पहले, नेपाल के केंद्रीय बैंक ने सरकार को ईंधन की खपत को कम करने के लिए दो दिवसीय सार्वजनिक अवकाश लागू करने की सलाह इस आधार पर दी थी कि छुट्टियों के दौरान सार्वजनिक गतिशीलता काफी कम हो जाती है।

ये भी पढ़ेंः ट्रेन से सफर करने वालों के लिए गुड न्‍यूज, खबर पढ़कर झूम उठेंगे यात्री


व्यापार और निर्यात संवर्धन केंद्र के अनुसार, जुलाई 2021 के मध्य में शुरू हुए चालू वित्त वर्ष के पहले आठ महीनों में नेपाल के लिए ईंधन सबसे बड़ा आयात वस्तु है, जो कुल व्यापारिक आयात का 14 प्रतिशत से अधिक है। दुनिया के अन्य हिस्सों की तरह, नेपाल ने हाल के महीनों में रूस-यूक्रेन संघर्ष और अन्य कारकों के कारण ईंधन की कीमतों में वृद्धि देखी है। इस बीच, केंद्रीय बैंक के आंकड़ों के अनुसार, नेपाल का सकल विदेशी मुद्रा भंडार मार्च के मध्य में 18.5 प्रतिशत घटकर 9.58 अरब डॉलर हो गया, जो चालू वित्त वर्ष की शुरूआत में 11.75 अरब डॉलर था। विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट के जवाब में, सरकार ने कुछ उत्पादों के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया है, और चालू वित्त वर्ष के अंत तक सरकारी निकायों के लिए ईंधन भत्ते में 20 प्रतिशत की कटौती की गई है। 1990 के दशक के अंत में, नेपाल ने सरकारी कर्मचारियों की दक्षता और उत्पादकता बढ़ाने के उद्देश्य से दो दिवसीय साप्ताहिक अवकाश का प्रयोग किया था। कुछ महीने बाद फैसला वापस ले लिया गया था।