अरुणाचल प्रदेश पुलिस ने पूर्वी सियांग जिले के मेबो सब डिवीजन के अंतर्गत पासीघाट के नागोपोक गांव में एक नाबालिग लड़की से कथित रूप से बलात्कार करने के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया।

रिपोर्ट के अनुसार, यह घटना मंगलवार को हुई थी। आठ वर्षीय पीड़िता ने बताया कि जब उसके माता-पिता घर में नहीं थे। खेतों में काम करने गए हुए थे तब 45 वर्षीय व्यक्ति ने घर में घुसकर इस घिनौने अपराध को अंजाम दिया। पीड़िता ने यह भी बताया कि एक और व्यक्ति ने कथित तौर पर उसके साथ बलात्कार किया है।

इस घटना को लेकर पीड़िता के पिता ने पासीघाट पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज करवाई है।

एफआईआर के आधार पर, पासीघाट पुलिस ने कथित आरोपी बुकयंग यिरंग को बुधवार को नागोपोक गांव से गिरफ्तार कर लिया था वहीं 22 वर्षीय गेटम रतन को गुरुवार को गिरफ्तार किया गया है। पीड़िता पूछताछ के दौरान रतन के बारे में पुलिस को बताया।

पुलिस ने दोनों आरोपियों पर आईपीसी की धारा 376 और पास्को अधिनियम की धारा 4/6 के तहत मामला दर्ज किया है।

अरुणाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी (एपीसीसी) ने बलात्कार की घटना की निंदा की और पीड़ितों के लिए न्याय की मांग की। एपीसीसी ने कहा, 'पेमा खंडु की अगुआई वाली बीजेपी सरकार लोगों के लिए काम नहीं कर पा रही है और राज्य 'बालतकारी प्रदेश' बन गया है।'

एपीसीसी ने यह भी आरोप लगाया कि खंडू की सरकार अपराधियों को बचाने की कोशिश कर रही है और लोगों के दुखों पर खुश है।