Twitter पर पाकिस्तानियों ने 1178 अकाउंट बना रखे हैं जिनको बैन करने को लेकर मोदी सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। सरकार ने ट्विटर से इन्हें बैन करने को कहा है। इसको लेकर Twitter ने भारत सरकार को जवाब दिया है और बताया है कि उसने 500 से अधिक अकाउंट को बंद करने के अलावा विवादित हैशटैग को भी हटाया है। कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसानों के प्रदर्शन को लेकर गलत जानकारी फैलाने को लेकर केंद्र सरकार ने कड़ा कदम उठाते हुए ट्विटर को भड़काऊ कंटेंट फैलाने वाले 1178 पाकिस्तानी-खालिस्तानी अकाउंट को हटाने का निर्देश दिया था।
ट्विटर ने अपने बयान में कहा, '26 जनवरी 2021 के बाद हमारी वैश्विक टीम ने 24/7 कवरेज प्रदान की है और हमने कंटेंट, ट्रेंड्स, ट्वीट्स और अकाउंटों पर निष्पक्ष रूप से कार्रवाई की, जो कि ट्विटर के नियमों के उल्लंघन कर रहे थे। हमारी वैश्विक नीति की रूपरेखा हर ट्वीट को नियंत्रित करती है।

1. ट्विटर नियमों का उल्लंघन करने वाले सैकड़ों खातों पर कार्रवाई की, जो विशेष रूप से हिंसा, दुर्व्यवहार, नुकसान पहुंचाने की इच्छा, और धमकियों को बढ़ावा दे सकते हैं।
2. हमें कुछ टर्म्स को रोका, जो हमारे नियमों का उल्लंघन कर ट्रेंस सेक्शन में आ रहे थे।
3.  गलत सूचना और भड़काऊ कंटेंट फैलाने वाले 500 से अधिक अकाउंट्स को निलंबित कर दिया।
4. गलत जानकारी फैलाने और वास्तविक दुनिया के नुकसान पहुंचाने वाले ट्वीट्स को भी हमने हटाया है, जो हमारी सिंथेटिक और मीडिया पॉलिसी का उल्लंघन कर रहे थे।

इसके साथ ही ट्विटर ने बताया है कि किसी भी मीडिया संस्थान, पत्रकार या एक्टिविस्ट के अकाउंट बैन नहीं किए गए हैं। ट्विटर ने कहा कि किसी भी मीडिया संस्थान, पत्रकार, एक्टिविस्ट और नेता के अकाउंट के खिलाफ कोई ऐक्शन नहीं लिया है। भारतीय कानून के तहत अभिव्यक्ति की आजादी के अंतर्गत उन्हें अपनी बात कहने का अधिकार है।

भारत सरकार ने ट्विटर को किसानों के प्रदर्शन और कृषि कानूनों को लेकर गलत सूचना और भड़काऊ कंटेंट फैलाने वाले 1178 पाकिस्तानी-खालिस्तानी अकाउंट को हटाने का निर्देश दिया था। केंद्र ने 4 फरवरी 2021 को पाकिस्तान और खालिस्तान लिंक वाले 1178 अकाउंट की लिस्ट ट्विटर (Twitter) को दिया था और इन्हें ब्लॉक करने का निर्देश दिया था। हालांकि ट्विटर ने पूरी तरह से आदेशों का पालन नहीं किया है।

भारत सरकार ने ट्विटर सीईओ जैक डोर्सी द्वारा किसान विरोध के समर्थन में कुछ विदेशी हस्तियों द्वारा किए गए गए ट्वीट को लाइक करने पर भी आपत्ति जताई थी। भारत सरकार के सूत्रों ने बताया था कि केंद्र ने इसको लेकर ट्विटर की तटस्थता पर भी सवाल उठाया था।