ट्विटर ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के ट्विटर अकाउंट से हटाया गया ब्लू टिक फिर से वापस कर दिया है। इससे पहले माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर ने राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (RSS) के प्रमुख मोहन भागवत के ट्विटर अकाउंट से ब्लू टिक हटा दिया था। 

दरअसल इससे पहले ट्विटर ने शनिवार की सुबह उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के ट्विटर अकाउंट से ब्लू टिक हटा दिया था। जिसके बाद आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत, संघ के नेता कृष्ण गोपाल समेत कई अन्य संघ कार्यकर्ताओं के ट्विटर अकाउंट से भी ब्लू टिक हटा दिया गया था। उपराष्ट्रपति के ट्विटर अकाउंट से ब्लू टिक हटाए जाने के बाद विवाद काफी बढ़ गया था। जिसके बाद ट्विटर ने वेंकैया नायडू के अकाउंट का ब्लू-टिक री स्टोर कर दिया था। 

अब ट्विटर ने एक बार फिर अपनी गलती सुधारी है। उसने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत, संघ के नेता कृष्ण गोपाल समेत अन्य सभी संघ नेताओं के ट्विटर अकाउंट पर लगे ब्लू टिक को वापस कर दिया है। मोहन भागवत और कृष्ण गोपाल के अलावा जिन संघ नेताओं के ट्विटर अकाउंट से ब्लू टिक हटाया गया था उनमें सुरेश सोनी, अरुण कुमार और सुरेश जोशी जैसे लोग शामिल थे। 

मोहन भागवत का ट्विटर अकाउंट मई 2019 में बना था। ट्विटर से ब्लू टिक हटाने का मतलब होता है कि ट्विटर ने उस अकाउंट को अनवेरिफाई कर दिया है। ट्विटर के नियमों के मुताबिक, अकाउंट को सक्रिय रखने के लिए हर छह महीने में लॉग इन करना जरूरी है और प्रोफाइल को अपडेट करना जरूरी है। वहीं वेंकैया नायडू के ट्विटर अकाउंट से ब्लू टिक हटाने के बाद ट्विटर की ओर से यही सफाई दी गई थी कि वेंकैया नायडू के ट्विटर हैंडल को पिछले छह महीने में लॉग इन नहीं किया गया था।

उपराष्ट्रपति और मोहन भागवत के ट्विटर अकाउंटर से ब्लू टिक हटाए जाने के बाद देश भर में ट्विटर का विरोध शुरू हो गया था। कहा जा रहा था कि केंद्र सरकार भी ट्विटर पर कड़ा एक्शन लेने के मूड में है। जिसके बाद आखिरकार ट्विटर को अपनी गलती सुधारनी पड़ी है।