आॅस्ट्रेलिया में आयोजित 21वें काॅमनवेल्थ गेम्स में भारत की भारोत्तोलक मीराबाई चानू ने देश की उम्मीदों पर खरा उतरी आैर 48 किलोग्राम भारवर्ग स्पर्धा में देश के नाम पहला स्वर्ण पदक किया। मणिपुर की चानू ने आयोजन में पूरे समय बेहतरीन प्रदर्शन किया और अपने प्रतिद्वंद्वियों को अपने आस-पास भी नहीं फटकने दिया।


देश में वेटलिफटिंग की पोस्टर गर्ल रही कुंजारानी को अपनी प्रेरणा बताने वाली मणिपुर की चानू ने गेम के दोनों भागों शानदार प्रदर्शन किया। उन्होंने स्नैच में 86 स्कोर किया और क्लीन एंड जर्क में 110 स्कोर करते हुए कुल 196 के स्कोर के साथ स्वर्ण पदक अपने नाम कर लिया।


आपको यह जानकार हैरानी होगी कि जिस चानू ने देश का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया देश का सिस्टम उन्हें एक फिजियो भी उपलब्ध नहीं करवा सका। खैर 'जहां चाह वहां राह' चानू ने बिना फिजियो फेसेलिटी के वह कर दिखाया जो बड़े-बडे़ देशों की सर्व सुविधा संपन्न इंडोर में तैयारी करती है।