उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत (Trivendra Singh Rawat) ने विधानसभा चुनाव लडऩे (uttarakhand assembly elections) से इनकार कर दिया है। उन्होंने इस संबंध में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) को एक पत्र भी लिखा है। नड्डा को लिखे पत्र में उन्होंने कहा, राज्य में नेतृत्व बदल गया है और पार्टी को एक युवा नेता पुष्कर सिंह धामी (Pushkar Singh Dhami) मिले हैं। ऐसे में बदले हुए राजनीतिक परिदृश्य के बीच मुझे 2022 का विधानसभा चुनाव नहीं लडऩा चाहिए।

उन्होंने (Trivendra Singh Rawat) कहा कि उन्होंने पहले भी 2022 का चुनाव नहीं लडऩे के अपने इरादे से अवगत कराया था। पत्र में कहा गया है, राष्ट्रीय सचिव और पार्टी द्वारा पूर्व में मुझे दी गई जिम्मेदारियों के अनुसार मैंने महाराष्ट्र, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, चंडीगढ़ और उत्तर प्रदेश में चुनाव संबंधी काम किया है। मैं पूरे समय काम करना चाहता हूं ताकि धामी (Pushkar Singh Dhami) के नेतृत्व में भाजपा की सरकार बने। इसलिए, मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि आप चुनाव न लडऩे के मेरे अनुरोध को स्वीकार करें ताकि मैं राज्य में फिर से भाजपा सरकार के गठन के लिए अपनी पूरी कोशिश कर सकूं।

बता दें कि 2017 में त्रिवेंद्र सिंह रावत (Trivendra Singh Rawat) डोईवाला निर्वाचन क्षेत्र से जीतकर मुख्यमंत्री बने। मार्च 2021 में बीजेपी आलाकमान ने उन्हें मुख्यमंत्री पद से हटाकर तीरथ सिंह रावत (Tirath Singh Rawat) को पहाड़ी राज्य का मुख्यमंत्री बना दिया। यह देखते हुए कि तीरथ सिंह रावत छह महीने के भीतर विधायक के रूप में नहीं चुने जा सकते, भगवा पार्टी ने राज्य सरकार की बागडोर धामी को सौंप दी। राज्य में 14 फरवरी को मतदान होना है और 10 मार्च को परिणाम आएंगे।