पत्रकार सुदीप दत्ता भौमिक की हत्या के मामले में विशेष जांच टीम(एसआईटी) ने शनिवार को दो और सुरक्षा कर्मियों को गिरफ्तार किया। पुलिस ने यह जानकारी दी है। आपको बता दें कि पत्रकार भौमिक हत्याकांड की जांच के लिए त्रिपुरा की लेफ्ट फ्रंट सरकार ने एसआईटी गठित की थी। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि जांच के बाद एसआईटी ने नायब सुबेदार अमित देबबर्मा और टीएसआर के राइफलमैन धर्मेन्द्र सिंह को गिरफ्तार किया है क्योंकि वे हत्या के षडयंत्र में शामिल हैं। दोनों ने भौमिक की हत्या के लिए उकसाने का काम किया। गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने दोनों को शनिवार को यहां मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया।

कोर्ट ने दोनों को सात दिन की पुलिस रिमांड में भेज दिया। दोनों की गिरफ्तारी के बाद भौमिक हत्याकांड में गिरफ्तार किए जाने वालों की संख्या चार हो गई है। आपको बता दें कि  मंगलवार को टीआरएस सेकैंड बटालियन के हेडक्वाटर्स परिसर में भौमिक की गोली मारकर हत्या कर दी थी।हत्याकांड में आरोपी टीएसआर सेकैंड बटालियन कमांडेंट तपन देबबर्मा भी पुलिस हिरासत में है। पुलिस के मुताबिक टीआरएस सेकैंड बटालियन के राइफलमैन नंदु कुमार रियांग ने बहस के बाद स्थानीय समाचार पत्र के पत्रकार सुदीप दत्ता भौमिक की अगरतला से 25 किलोमीटर दूर राधा किशोर नगर इलाके में गोली मारकर हत्या कर दी थी। रियांग बटालियन कमांडेंट तपन देबबर्मा का बॉडीगार्ड है,जो त्रिपुरा पुलिस सर्विस(टीपीएस) के 1998 बैच के वरिष्ठ अधिकारी हैं। भौमिक देबबर्मा से मिलने बटालियन हेडक्वाटर्स गए थे। रियांग और देबबर्मा अब पुलिस हिरासत में हैं। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी दोनों से पूछताछ कर रहे हैं।
प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया ने हत्या पर स्वत: संज्ञान लेते हुए त्रिपुरा सरकार से रिपोर्ट मांगी है। सीबीआई जांच की मांग करते हुए कई पत्रकार संगठनों ने शनिवार को विरोध में रैली निकाली। हाल ही में गठित फोरम फॉर प्रोटेक्शन ऑफ जर्नलिस्ट्स(ईपीएफ) के संयोजक प्रणब सरकार का कहना है कि पत्रकार भौमिक हत्याकांड की सीबीआई से जांच कराने व मीडिया कर्मियों की सुरक्षा की मांग को लेकर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को ज्ञापन भेजा जाएगा। भौमिक श्यानदान पत्रिका व लोकल कैबल टीवी चैनल वनगार्डा के रिपोर्टर थे। भौमिक अपने पीछे पत्नी और दो बच्चों को छोड़कर गए हैं। भौमिक की पत्नी सरकारी टीचर है। इससे पहले 28 वर्षीय टीवी पत्रकार शांतनु भौमिक की 20 सितंबर को हत्या की गई थी। शांतनु की हत्या मंडई में उस वक्त की गई थी जब वे इवेंट कवर करने गए थे।

त्रिपुरा के राज्यपाल तथागत रॉय जो इस वक्त दिल्ली में है, ने कहा है कि भौमिक की हत्या पर वे गृह मंत्री राजनाथ सिंह को रिपोर्ट सौंपेंगे। कांग्रेस ने हत्या की सीबीआई से जांच कराने की मांग की है। भाजपा ने भी सीबीआई जांच की मांग करते हुए मुख्यमंत्री माणिक सरकार का इस्तीफा मांगा है। आपको बता दें कि माणिक सरकार के पास गृह विभाग भी है। दोनों दलों ने गुरुवार को हत्या के विध में राज्यव्यापी बंद का ऐलान किया था। सत्तारुढ़ सीपीआई-एम ने भाजपा पर पत्रकार की हत्या का राजनीतिकरण करने का आरोप लगाया है।