गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सीपीआइएम सरकार पर तीखा हमला भी बोला है राजनाथ सिंह ने कहा कि अगर आप झारखंड, छ्त्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश की 15 साल पहले की स्थिति को आज से तुलना करेंगे तो आपको पता चल जाएगा कि विकास कैसे हुआ। मगर वे विकास की कला जानते हैं। सीपीआइएम सरकार के 25 साल के बाद भी त्रिपुरा के 66 प्रतिशत लोग एक साइकिल तक नहीं खरीद सकते।

वहीं राजनाथ सिंह ने आगे कहा कि त्रिपुरा में पत्रकार सुदीप दत्ता भौमिक की हत्या की सीबीआइ जांच होनी चाहिए। उन्‍होंने कहा कि राज्य सरकार ने अभी तक इसके लिए सिफारिश नहीं की है, इसलिए हम अभी सीबीआइ जांच नहीं करा सकते हैं। अगर राज्य में हमारी सरकार बनेगी तो हम एक हफ्ते में पत्रकार की हत्या की सीबीआइ जांच कराएंगे।

इससे पहले शनिवार को राजनाथ सिंह ने त्रिपुरा की जनता से कहा था कि उन्होंने राज्य में वामपंथी पार्टियों को कई बार मौका दिया है, इसलिए राज्य में वास्तविक और सभी वर्गो के समग्र विकास के लिए इस बार भाजपा को भी मौका दें।

त्रिपुरा की राजधानी अगरतला के बाहरी इलाके बर्जाला में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए राजनाथ ने कहा कि त्रिपुरा में बड़ी मात्रा में प्राकृतिक संसाधन हैं और भाजपा सत्ता में आई तो वह इस पूर्वोत्तर राज्य को भारत का नंबर वन राज्य बना देगी। राज्य की वाम मोर्चा सरकार पर प्रहार करते हुए गृह मंत्री ने कहा कि पिछले 25 वर्षो के शासनकाल में इस सरकार ने त्रिपुरा के विकास, आर्थिक समृद्धि और गरीबी व बेरोजगारी के उन्मूलन के लिए कुछ भी नहीं किया।

 पश्चिम बंगाल में भी 35 वर्षो के शासनकाल में माकपा ने राज्य को तबाह कर दिया। 18 फरवरी के होने वाले चुनाव में अगर वामपंथी पार्टियों को त्रिपुरा में शासन करने का फिर से अधिकार दिया गया तो वे राज्य और इसके लोगों के भविष्य को पूरी तरह बर्बाद कर देंगे।