त्रिपुरा सरकार ने पत्रकार सुदीप दत्ता भौमिक के परिवार को 10 लाख रुपए का मुआवजा देने की घोषणा की है। मंगलवार को कैबिनेट की बैठक में यह फैसला हुआ। राज्य के सूचना व वित्त मंत्री भानुलाल साहा ने मीडिया को बताया कि सरकार ने पत्रकार सुदीप दत्ता भौमिक के परिवार को 10 लाख रुपए का मुआवजा देने का फैसला किया है। हालांकि त्रिपुरा की सरकार ने सुदीप के परिवार के सदस्यों को सरकारी नौकरी देने जैसे कोई घोषणा नहीं है। वहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सुदीप दत्ता भौमिक के बेटे को सरकारी नकरी ऑफर की है। तृणमूल कांग्रेस के नेता सब्यसाची दत्ता मंगलवार को त्रिपुरा पहुंचे। उन्होंने भौमिक के परिवार से मुलाकात की। सुदीप दत्ता भौमिक के बेटे फिलहाल ओडिशा से बी.टेक की पढ़ाई कर रहे हैं।

आपको बता दें कि 21 नवंबर को अगरतला से 18 किलोमीटर दूर वेस्ट त्रिपुरा डिस्ट्रिक्ट के आर.के.नगर स्थित त्रिपुरा स्टेट राइफल्स सेकैंड बटालियन के हेडक्वाटर्स में भौमिक की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। हत्याकांड की जांच कर रही एसआईटी का कहना है कि भौमिक की हत्या सुनियोजित साजिश के तहत की गई थी। डीआइर्जी(नॉर्दन रेंज)अरिंदम नाथ जो एसआईटी को हेड कर रहे हैं ने शनिवार को बताया था कि जांच में खुलासा हुआ है कि भौमिक की हत्या के लिए सुनियोजित साजिश रची गई थी। त्रिपुरा स्टेट राइफल्स के राइफलमैन नंदगोपाल रियांग ने भौमिक की गोली मारकर हत्या की थी। कहा जा रहा है कि बटालियन कमांडेंट तपन देबबर्मा से कथित झगड़े के बाद भौमिक की हत्या की गई थी।
इस मामले में पुलिस ने त्रिपुरा स्टेट राइफल्स (टीएसआर)के दो और कर्मियों को गिरफ्तार किया है। ये हैं नायब सुबेदार अमित देबबर्मा और राइफलमैनधमेन्द्र सिंह। दोनों को शक्रवार रात गिरफ्तार किया गया। शनिवार को उन्हें मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट कोर्ट के समक्ष पेश किया गया। जहां से उन्हें सात दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया। तपन देबबर्मा और रियांग से पूछताछ के बाद दोनों को गिरफ्तार किया गया। पुलिस का कहना है कि गिरफ्तार किए गए 4 टीएसआर कर्मियों में से दो ने भौमिक की हत्या के लिए साजिश रची थी। जब डीआईजी से हत्या के मकसद के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि इसकी जांच चल रही है।
एसआईटी ने चारों के खिलाफ आपराधिक साजिश का मामला दर्ज किया है। सहायक लोक अभियोजक उतम बनर्जी ने यह जानकारी दी। बनर्जी ने बताया कि उनके खिलाफ आम्र्स एक्ट की धारा 302, 109 और 27 के अलावा भौमिक की हत्या की साजिश रचने के लिए धारा 120(बी) के तहत भी मामला दर्ज किया गया है। आगे की सुनवाई के लिए उन्हें 1 दिसंबर को कोर्ट में पेश किया जाएगा। सुदीप दत्ता भौमिक ने टीआरएस कमांडेंट तपन देबबर्मा के खिलाफ लगे भ्रष्टाचार व अन्य आरोपों को लेकर 11 न्यूज आर्टिकल्स लिखे थे।

उन्होंने इन खुलासों को रोकने के लिए भौमिक की नृशंस हत्या की। यह आरोप श्यानदन पत्रिका के संपादक सुबल कुमार डे ने लगाया है। समाचार पत्र ने 20 सतंबर के अपने एडिशन में भौमिक का आरोपी कमांडेंट पर एक आर्टिकल छपा था। भौमिक त्रिपुरा के क्षेत्रीय भाषा के समाचार पत्र श्यानदन पत्रिका में सीनियर क्राइम रिपोर्टर थे। रियांग बटालियन कमांडेंट तपन देबबर्मा का बॉडीगार्ड है,जो त्रिपुरा पुलिस सर्विस(टीपीएस) के 1998 बैच के वरिष्ठ अधिकारी हैं। भौमिक देबबर्मा से मिलने बटालियन हेडक्वाटर्स गए थे। प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया ने हत्या पर स्वत: संज्ञान लेते हुए त्रिपुरा सरकार से रिपोर्ट मांगी है। 20 सितंबर को 28 वर्षीय टीवी पत्रकार शांतनु भौमिक की हत्या की गई थी।