त्रिपुरा सरकार ने कोरोना वायरस के मामलों में बढ़ोतरी की वजह से सभी स्कूलों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में छात्रों की शारीरिक उपस्थिति को निलंबित करने की घोषणा की है। यह आदेश 17 अप्रैल से लागू हो गया है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सूबे की सरकार ने सभी स्कूलों में छात्रों की फिजिकल कक्षाओं एवं उपस्थिति को रद्द कर दिया है। 

आपको बता दें कि इससे हफ्तेभर पहले सूबे में पहली और दूसरी क्लास की कक्षाओं के लिए क्लासरूम टीचिंग को निलंबित किया गया था। गौरतलब है कि इस वक्त देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर की वजह से तेजी से संक्रमण के मामलों में इजाफा हो रहा है। जिसे देखते हुए कई राज्यों ने स्कूल, कॉलेज और विश्वविद्यालयों को फिर से बंद कर दिया और कक्षाओं को स्थगित कर दिया है।

त्रिपुरा में पिछले साल मार्च से ही स्कूल, कॉलेज और उच्च शिक्षण संस्थान बंद थे जो कि 8 दिसंबर के बाद विभिन्न चरणों में धीरे-धीरे खुले थे। अब सूबे के शिक्षा मंत्री रतन लाल नाथ ने कोरोना के हालिया उछाल और छात्रों एवं अभिभावकों के अनुरोधों को देखते हुए स्कूलों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों सहित सभी शैक्षणिक संस्थानों को बंद करने का फैसला किया है। स्कूलों की माध्यमिक परीक्षा 19 मई और उच्चतर माध्यमिक परीक्षा 18 मई से शुरू होंगी।

उन्होंने कहा कि हम अभी यह नहीं कह रहे हैं कि माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक परीक्षाओं को स्थगित कर दिया जाएगा। यह उस वक्त की स्थिति पर निर्भर करेगा। उन्होंने कहा कि केंद्र ने केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) द्वारा आयोजित माध्यमिक परीक्षा को रद्द कर दिया है और उच्च माध्यमिक परीक्षा को स्थगित कर दिया है।