त्रिपुरा में सत्तारुढ़ लेफ्ट फ्रंट ने विधानसभा चुनाव के लिए मंगलवार को उम्मीदवारों की सूची जारी की। इसमें पुराने और नए चेहरे शामिल है। साथ ही सात महिलाओं को भी टिकट दिया गया है। आपको बता दें कि त्रिपुरा की 60 विधानसभा सीटों के लिए 18 फरवरी को मतदान होगा। 3 मार्च को चुनाव के नतीजे घोषित होंगे। भाजपा और कांग्रेस अभी तक पार्टी उम्मीदवारों की सूची जारी नहीं कर पाए हैं। लेफ्ट नेताओं के मुताबिक उम्मीदवारों के चयन में सीपीएम ने लेफ्ट फ्रंट के सहयोगियों पर भारी रही है। 

सीपीएम के स्टेट सेक्रेटरी बिजन धर ने उम्मीदवारों की सूची जारी करते हुए मीडिया को बताया कि लेफ्ट फ्रंट के 12 नए उम्मीदवार व सात महिला उम्मीदवार 18 फरवरी को होने वाले विधानसभा चुनाव लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि लेफ्ट फ्रंट के पार्टनर्स को पांच सीटें दी गई है। इनमें सीपीआई को दो, फॉरवर्ड ब्लॉक को एक, रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी को दो सीटें दी गई है। सीपीएम की सेंट्रल कमेटी के सदस्य बिजन धर को मंगलवार को लेफ्ट फ्रंट का संयोजक चुना गया है। खगेन दास का रविवार को दिल का दौरा पडऩे से कोलकाता में निधन हो गया था। 

इस कारण धर को संयोजक चुना गया है। धर ने कहा कि पिछले विधानसभा चुनाव में सीपीएम ने पांच महिला उम्मीदवारों को टिकट दिया था। सभी ने चुनाव जीता था। इस बार पार्टी ने सात महिलाओं को टिकट दिया है। सीपीएम के पांच मौजूदा विधायकों को हेल्थ ग्राउंड और संगठनात्मक कारणों से टिकट नहीं दिया गया है। लेफ्ट फ्रंट के 60 उम्मीदवारों में 35 साल के झुमु सरकार(जिन्हें बारजला से टिकट दिया गया है) सबसे युवा कैंडिडेट हैं जबकि79 साल के निराजॉय त्रिपुरा(जिन्हें चावमनु से टिकट दिया गया है)सबसे बुजुर्ग उम्मीदवार हैं। निर्वतमान हेल्थ व पीडब्ल्यूडी मंत्री बादल चौधरी रिकॉर्ड 10 वीं बार विधानसभा चुनाव लड़ेंगे। वह सात बार विधानसभा चुनाव जीत चुके हैं जबकि शिक्षा व कानून मंत्री तपन चक्रवर्ती नौंवी बार चुनाव लड़ेंगे। 

इनमें से वह 6 बार जीत चुके हैं। चक्रवर्ती 1978 से चुनाव जीतते आ रहे हैं। 1978 में नृपेन चक्रवर्ती के नेतृत्व में पहली बार त्रिपुरा में लेफ्ट फ्रंट की सरकार बनी थी। प्रतिष्ठित भानमालिपुर सीट से सीपीएम की यूथ विंग डीवाईएफआई के सचिव अमल चक्रवर्ती को टिकट दिया गया है। वह लेफ्ट फ्रंट के नए उम्मीदवार होंगे। सीपीएम के राज्यसभा सदस्य और पार्टी की वुमन फ्रंट लीडर झरना दास वैद्य को बाधारघात सीट से टिकट दिया गया है। मुख्यमंत्री और त्रिपुरा से सीपीएम के एक मात्र पोलित ब्यूरो सदस्य माणिक सरकार पारंपरिक धानपुर सीट से चुनाव लड़ेंगे। 11 मंत्रियों को फिर से चुनाव मैदान में उतारा गया है।