त्रिपुरा कांग्रेस और इंडीजीनस नेशनलिस्ट पार्टी ऑफ ट्विप्रा (INPT) ने आगामी लोकसभा चुनावों में बीजेपी को हराने के लिए इंडिजिनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (IPFT) से उनका समर्थन करने का आग्रह किया है। इस संबंध में, आईपीएफटी के अध्यक्ष और राज्य के राजस्व मंत्री एनसी देबबर्मा के आवास पर एक बैठक आयोजित की गई, जिसमें त्रिपुरा कांग्रेस अध्यक्ष पी किशोर और आईएनपीटी के प्रमुख बिजॉय कुमार ह्रांगखल मौजूद थे।

मीडिया से बात करते हुए, किशोर ने कहा, "हम उनसे (एनसी देबबर्मा) से अपील करने आए हैं कि जो बीजेपी को हराना चाहते हैं और नागरिकता (संशोधन), बिल को रोकना चाहते हैं और राज्य के लोगों के हित के लिए हमसे जुड़ें। हमें हर हालत में एकजुट रहाना चाहिए। त्रिपुरा में हमारे वोट, बल्कि उस राजनीतिक पार्टी को हराने की दिशा में काम करते हैं, जो त्रिपुरा की संस्कृति और विरासत को नष्ट करने पर आमादा है।”

"देबबर्मा ने मुझे बताया कि उन्हें कुछ समय चाहिए। मुझे आप सभी को बताना चाहिए कि बीजेपी ने कई बार अपने सहयोगियों को बदनाम किया है। उन्होंने देबबर्मा को चोर कहा है। अगर देबबर्मा का आत्मसम्मान है, तो वह निश्चित रूप से हमारे साथ हाथ मिलाएंगे।" इस सप्ताह की शुरुआत में, कांग्रेस और INPT ने नागरिकता (संशोधन) विधेयक, 2019 को अवरुद्ध करने के लिए राज्य में गठबंधन किया था। दोनों पार्टियां त्रिपुरा में 1983 से संयुक्त रूप से चुनाव लड़ रही हैं और 1988 से पांच साल तक राज्य में गठबंधन सरकार भी चलाई थी। त्रिपुरा पश्चिम के लिए मतदान पहले चरण में 11 अप्रैल को और त्रिपुरा पूर्व में दूसरे चरण में 18 अप्रैल को होगा। मतगणना 23 मई को होगी