आजकल मोबाईल बैंकिंग का जमाना है और कई बार गलत अकाउंट में या एक खाते से दूसरे बैंक खाते में पैसे ट्रांसफर हो जाते हैं. कई बार बैंकिंग फ्रॉड में भी ऐसा ही होता है. अब UPI, नेट बैंकिंग, मोबाइल वॉलेट ने बैंकिंग ट्रांजैक्शन से जुड़ी मुश्किलों को काफी हद तक कम कर दिया है. इनकी वजह से आपको किसी के खाते में पैसे ट्रांसफर करने के लिए बैंक जाने की जरूरत नहीं होती. यह काम बस एक मोबाइल फ़ोन से तुरंत हो जाता है. लेकिन इसमें कई बार गलत नंबर पर पैसे ट्रांसफर हो जाते हैं. ऐसे में आप अपना पैसा वापस भी पा सकते हैं. तो जानिए इसकी प्रोसेस---

ये भी पढ़ेंः 90 डॉलर प्रति बैरल है तेल की कीमतें, ऐसे में क्या है पेट्रोल और डीजल के भाव, एक क्लिक पर जानें

तुरंत वापस मिलेगा पैसा

बैंकिंग सुविधाओं को आसान बनाने के लिए कई नई तकनीक हैं, लेकिन इसी के साथ थोड़ी मुश्किलें भी आईं हैं. जैसे अगर आपने गलती से किसी और के खाते में पैसे ट्रांसफर कर दिए तब क्या करेंगे. उस पैसे को कैसे वापस पाएंगे. कभी न कभी आप से भी ये गलती जरूर हुई होगी. अगर गलती से आपके पैसे किसी अन्य खाते में चले गए हैं तो आप उसे वापस पा सकते हैं.

तुरंत बैंक को दें जानकारी 

जैसे ही आपको पता चले कि आपने गलती से पैसे किसी और के खाते में ट्रांसफर हो गए हैं तो इसकी जानकारी तुरंत अपने बैंक को दें. कस्टमर केयर को फोन करें और उन्हें पूरी बात बताएं. बैंक आपसे अगर ई-मेल पर सारी जानकारी मांगे तो उसमें इस गलती से हुए ट्रांजेक्शन की पूरी जानकारी दें. ट्रांजेक्शन की तारीख और समय, अपना अकाउंट नंबर और जिस खाते में गलती से पैसे ट्रांसफर हुए हैं, उसका भी जिक्र जरूर करें

ब्रांच मैनेजर से मिलें

अगर आपने जिस बैंक खाते में पैसा ट्रांसफर किया है, वो अकाउंट नंबर ही गलत है या IFSC कोड गलत है, तो पैसा अपने आप ही आपके खाते में आ जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं है तो अपने बैंक ब्रांच में जाकर ब्रांच मैनेजर से मिलें. उसे इस गलत ट्रांजैक्शन के बारे में बताएं. ये जानने की कोशिश करें कि पैसे किस बैंक के खाते में गए हैं. अगर यह गलत ट्रांजैक्शन आपके ही बैंक की किसी ब्रांच में हुआ है तो यह आसानी से आपके खाते में आ जाएगा.

ये भी पढ़ेंः भारत में हिजाब को लेकर बवाल, सरकार ने ईरान में हो रहे विरोध को लेकर सुप्रीम कोर्ट में कही ऐसी बात

दूसरे बैंक के खाते में ट्रांसफर होने पर

अगर किसी दूसरे बैंक के खाते में पैसे गलती से ट्रांसफर हुए हैं तो पैसा वापस आने में ज्यादा समय लग सकता है. कई बार तो बैंक इस तरह के मामलों के निपटारे में 2 महीने तक का समय भी लगा सकते हैं. आप अपने बैंक से यह पता कर सकते हैं कि किस शहर की किस ब्रांच के किस अकाउंट में पैसा ट्रांसफर हुआ है. उस ब्रांच में बात कर आप भी अपने पैसे की वापसी का प्रयास कर सकते हैं. आपकी सूचना के आधार पर बैंक उस व्‍यक्ति के बैंक को सूचना देगा, जिसके खाते में गलती से पैसा ट्रांसफर हो गया है. बैंक उस व्‍यक्ति से गलत ट्रांसफर हुए पैसा को वापस करने की अनुमति मांगेगा.

तुरंत केस दर्ज कराएं

पैसा वापस लेने का दूसरा तरीका कानूनी है. अगर वह व्यक्ति जिसके खाते में गलती से पैसा ट्रांसफर हुआ है, वो लौटाने से इनकार करता है तो उसके खिलाफ कोर्ट में केस भी दर्ज कराया जा सकता है. हालांकि, पैसा वापस न करने की स्थिति में यह अधिकार रिजर्व बैंक नियमों के उल्लंघन के संदर्भ में होता है. भारतीय रिजर्व बैंक के दिशा-निर्देश के मुताबिक लाभार्थी के खाते की सही जानकारी देना लिंक करने वाले की जिम्मेदारी है. अगर, किसी वजह से लिंक करने वाले से गलती होती है तो उसका जिम्‍मेदार बैंक नहीं होगा.