रेलवे पर आम तौर पर ट्रेन (Train) देरी से संचालित किए जाने के आरोप लगते रहते हैं, लेकिन इस बार रेलवे ने एक शानदार कारनामा किया है। ट्रेन को करीब तीन किलोमीटर उल्टा (train ran in opposite direction) चलाया गया। रेलवे ने अपने इस अनूठे कदम के जरिए एक जच्चा बच्चा की जान बचाई।

दरअसल, आनंद विहार-भुवनेश्वर संपर्क क्रांति (Anand Vihar-Bhubaneswar Sampark Kranti) सुबह पांच बजकर 10 मिनट पर टाटानगर रेलवे स्टेशन से भुवनेश्वर के लिए रवाना हुई। ट्रेन मेंं सवार गर्भवती महिला (pregnant woman in train) रानूदास (27) के प्रसव पीड़ा शुरू हो गई। ट्रेन स्कॉर्ट ड्यूटी में तैनात आरपीएफ के जवानों (RPF jawans) ने रेलवे कंट्रोल रूम को तत्काल सूचना दी। इस दौरान ट्रेन रवाना हो गई और टाटानगर रेलवे स्टेशन के आउटर तक पहुंच गई थी।

रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों की जानकारी में मामला आया तो उन्होंने ट्रेन दोबारा से वापस स्टेशन पर लाने का निर्देश दिया। गर्भवती महिला को अस्पताल पहुंचाया गया, जहां उन्होंने एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया।