संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ने सिविल सेवा परीक्षा 2017 के अंतिम परिणामों की घोषणा कर दी है। मेटपल्ली दक्षिण भारत के रहने वाले अनुदीप डुरीशेट्टी इस परीक्षा में अव्वल रहे हैं। वह भारतीय रेवेन्यु सर्विस में असिस्टेंट कमिश्नर के पद पर हैं। दूसरे व तीसरे नंबर पर क्रमश: अनु कुमारी और सचिन गुप्ता रहे हैं। 

यूपीएसी के 2017 में आयोजित सिविल सर्विसेज परीक्षा के परिणाम असम के लिए उत्साहवर्धक रहे हैं। शुक्रवार को घोषित नतीजों के अनुसार परीक्षा में असम के कुल 13 परीक्षार्थियों को सफलता मिली है। परीक्षा में प्रथम 100 स्थान हासिल करने वालों में 41वें नंबर पर बिपाशा कलिता और 64वें नंबर पर स्वप्लिन पाल हैं। जानकारी के अनुसार परीक्षा में 126वें स्थान पर मृगाक्षी डेका, 148वें स्थान पर आरण्यक सइकिया और पूर्ण बोरा को 149वां स्थान प्राप्त हुआ है। इसके बाद मोमोनी दलै 593, शुभजीत भुयां 645, पार्थप्रतिम दास 795 और यशोधरा दास 894 सहित अन्य दो सफल परीक्षार्थी शामिल हैं। मालूम हो कि इनमें से 41वां स्थानप्राप्त बिपाशा कलिता बरपेटा के पूर्व जिला उपायुक्त फणिधर कलिता की पुत्री हैं, जो गुवाहाटी के ज्योतिनगर निवासी हैं। 

वहीं 148वां स्थान पाने वाले आरण्यक सइकिया राज्य के नवनियुक्त पुलिस महानिदेशक कुलधर सइकिया के बेटे हैं। इसके अलावा 738वां स्थान पाने वाले पार्थप्रतिम दास शिवसागर के मौजूदा डीसीपी हैं, जो कि जोरहाट से हैं। यूपीएससी फाइनल परीक्षा 2017 में कुल 990 अभ्यर्थी सफल हुए हैं। सामान्य वर्ग के 476, अति पिछड़ा वर्ग के 275, अनुसूचित जाती के 165, अनुसूचित जनजाति के 74 उम्मीदवार पास हुए हैं। भारतीय प्रशासनिक सेवा के लिए 180 उम्मीदवारों का चयन हुआ है। भारतीय सेवा के लिए 42, आईपीएस के लिए 150, केंद्रीय सेवा ग्रुप (क) 565, ग्रुप (ख) सेवाओं के लिए 121 उम्मीदवार पास हुए हैं। बता दें कि यूपीएससी मुख्य परीक्षा 28 अक्टूबर 2017 को आयोजित की गई थी।