- पूर्वोत्तर में सुरक्षाबलों ने अब तक 1,000 से ज्यादा नगा उग्रवादियों को गिरफ्तार किया है। बता दें कि ये आंकड़े एनएससीएन-के संगठन के सेना के एक काफिले पर हमला किए जाने के बाद के हैं। सेना के काफिले पर हुए हमले में 18 सैनिकों की मौत हो गई थी। सेना ने 531 भूमिगत उग्रवादियों के साथ ही सक्रिय रूप से काम करने वाले 542 उग्रवादियों को भी मणिपुर और नागालैंड से गिरफ्तार किया गया है।


- केरल में पिछले साल 30 वर्षीय दलित छात्रा जिशा के बलात्कार और हत्या के सनसनीखेज मामले में फांसी की सजा पाने वाले अमीरुल इस्लाम के बारे में एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। मुख्य आरोपी अमीरुल इस्लाम पर बकरी के साथ भी बलात्कार करने का आरोप है। जिशा हत्या की जांच कर रहे विशेष जांच दल ने अमिरुल के खिलाफ अप्राकृतिक सेक्स का मामला भी दर्ज किया है।


- आधार व एनआरसी के वेरिफिकेशन करने वालों से स्थानीय लोगों को सावधान रहने के लिए कहा गया है। पुलिस का कहना है कि आधार व एनआरसी वेरिफिकेशन के नाम पर कुछ डकैत गिरोह नगर में सक्रिय है । गुवाहाटी पुलिस कमिश्नर हिरेन चंद्र नाथ ने कहा कि कई ऐसे गिरोह है, जो खुद को गृह विभाग से आने को बात कहकर आधार व एनआरसी वेरिफिकेशन के नाम पर घर में घुस आते हैं और डकैती, लूटपाट आदि घटना को अंजाम देते हैं।


- केंद्र सरकार के हिन्दू बांग्लादेशियों को भारतीय नागरिकता देने के आशय का विधेयक संसद में पेश करने के निर्णय का विरोध किया जा रहा है। एआईयूडीएफ के अध्यक्ष मौलना बदरुद्दीन अजमल के मुताबिक इस विधेयक के पास होने से ऐतिहासिक असम समझौते का कोई मतलब नहीं रह जायगा।


- त्रिपुरा के टीवी पत्रकार शांतनु भौमिक की हत्या मामले की जांच कर रही विशेष जांच दल ने न्यायालय में आरोप पत्र दाखिल किया है और छह आरोपियों को न्यायिक हिरासत में सौंपे जाने की मांग की। एसआईटी ने इस मामले में 12 लोगों को आरोपी बनाया है, लेकिन इनमें से छह को अभी तक गिरफ्तार नहीं किया जा सका है।