इस समय चीन के साथ भारत के रिश्ते काफी खराब हो चुके हैं। कल लद्दाख में सीमा पर दोनों देशों के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई है, जिसकी वजह से करीब 20 भारतीय जवानों की मौत हो गई। चीन के इस रवैया को लेकर भारत के लोगों में गुस्सा भरा हुआ था, लेकिन अब चीन की हरकतों ने लोगों का गुस्सा और भड़का दिया है। चीनी सामानों के बहिष्कार की मांग अब जबरदस्त तरीके से उठ चुकी है। हम आपको बता रहे हैं उन 5 बड़ी चीनी कंपनियों के बारे में जिन्होंने भारतीय मार्केट पर कब्जा कर रखा है।
1. शाओमी
चीन की मोबाइल बनाने वाली कंपनी शाओमी भारत में नंबर-1 पर है। इस कंपनी का भारतीय मोबाइल फोन मार्केट के चौथाई से भी अधिक हिस्से पर कब्जा है। 2019 की तीसरी तिमाही में भारत में शाओमी के 26 फीसदी यूजर थे।

2. बाइटडांस: टिकटॉक और हेलो
टिकटॉक भारत में बेहद ही लोकप्रिय है। भारत में बहुत से लोग तो टिकटॉक से ही स्टार तक बन गए। चीनी कंपनी बाइटडांस का ये प्रोडक्ट भारत में करीब 11.9 करोड़ लोग इस्तेमाल करते हैं। इसके साथ ही चीन का हेलो एप भी खूब पॉपुलर हो रहा है। ये भी चीनी कंपनी बाइटडांस का ही एक प्रोडक्ट है। इस समय में भारत में हेलो एप के करीब 5 करोड़ मासिक एक्टिव यूजर्स हैं।

3. वीवो
चीन की ही मोबाइल कंपनी है वीवो का भारत के करीब 20 फीसदी बाजार पर कब्जा है। यदि चीन की श्याओमी, वीवो, ओपो और रीयलमी को एक साथ जोड़कर देखें तो इन सबने मिलकर भारत के करीब 65-67 फीसदी मार्केट पर कब्जा किया हुआ है।

4. यूसी ब्राउजर
चीन को छोड़कर बाकी दुनिया में यूसी ब्राउजर को करीब 1.1 अरब लोगों ने डाउनलोड किया हुआ है। भारत में इसके करीब 50 करोड़ यूजर्स हैं।

5. पबजी
पबजी वो नाम है जो हर बच्चे और युवा की जुबां पर चढ़ा हुआ है। भारत पबजी मोबाइल का सबसे बड़ा मार्केट है। दुनिया भर में इसके 55.5 करोड़ रुपए हैं, जिनमें से करीब 21 फीसदी यानी लगभग 11.6 करोड़ यूजर सिर्फ भारत में हैं।