भारत में मॉनसून का सीजन आ चुका है जो जून से सितंरब तक चार महीने रहता है। मॉनसून की असली फुहार जुलाई और अगस्त के महीने में ही देखने को मिलती है। लेकिन भारत में ऐसी कई जगहें हैं जहां इन दिनों मौसम बेहद खुशनुमा रहता है क्योंकि यहां खूब बारिश होती है। यदि आप यहां घूमने जाएंगे तो नजारे देख हैरान रह जाएंगे। ऐसे में हम आपको बता रहे हैं देश की उन 10 जगहों के बारे में जहां सबसे खूबसूरत बारिश होती है—

माजुली, असम
माजुली असम के जोरहाट जिले में दुनिया का सबसे बड़ा नदी द्वीप है। यह सदियों से सांस्कृतिक केंद्र रहा है, लेकिन अब यह अपना वजूद खोता जा रहा है। अगर आप ऐसी जगहों को देखने के शौकीन हैं तो इस मानसून यहां का ट्रिप बना सकते हैं।

जिरो, अरुणाचल प्रदेश
पथरीले चट्टानों के बीच रहकर बारिश का लुत्फ उठाना चाहते हैं तो अरुणाचल प्रदेश की जिरो नामक जगह आपके लिए बेस्ट रहेगी। वर्ल्ड हेरिटेज में शामिल इस टॉउन को अरुणांचल प्रदेश की सबसे सुंदर जगहों में से एक माना जाता है। इसके खूबसूरत नजारों को देखने के लिए मानसून से अच्छा टाइम और कोई नहीं हो सकता।

कोडाइकनाल, तमिलनाडु
तमिलनाडु के दिनदीगुल की खूबसूरत पहाड़ियों में बसा कोडाइकनाल यहां का एक मनमोहक पर्वतीय स्थल है। चारों तरफ फैली हरियाली और सुंदर नजारे मानसून में और सुहावने हो जाते हैं। अगर आप कहीं घूमने जाने का प्लान बना रहे हैं तो इसे अपनी लिस्ट में जरूर शामिल करें।

शोजा, हिमाचल प्रदेश
हिमाचल प्रदेश की सेराज घाटी में स्थित शोजा नाम की एक जगह है। कहा जाता है कि यहां बारिश के मौसम का नजारा स्वर्ग जैसा होता है।

मॉसिनराम, मेघालय
मेघालय की इस जगह ज्यादातर समय बारिश होती रहती है। इसलिए यहां का प्राकृतिक सौंदर्य बाकी सभी जगहों की तुलना में ज्यादा बेहतर होता है।

दियोरिया ताल, उत्तराखंड

उत्तराखंड के छोटे से गांवों मस्तुरा और सारी के पास ही चढ़ाई पर मौजूद इस ताल से दिखने वाला नजारा बहुत ही मनमोहक है। मानसून में यहां से दिखने वाले दृश्य बहुत ही दिलकश होते हैं।

शिवासुंदरम, कर्नाटक
बारिश की सुनहरी बूंदों का मजा लेना चाहते हैं तो कर्नाटक का शिवासुंदर एक अच्छा डेस्टिनेशन प्लेस साबित हो सकता है।

रानीखेत, उत्तराखंड
उत्तराखंड की एक और खूबसूरत जगह रानीखेत में भी आप इस मॉनसून का आनंद ले सकते हैं। यहां की वादियों में जाने के बाद आपका लौटने का मन नहीं करेगा।

काकाबे, कर्नाटक
मानसून के मौसम में कर्नाटक का हर कोना स्वर्ग सा हो जाता है और यहीं पर है ये छोटा सा गांव काकाबे। अगर आप प्राकृतिक सौंदर्य के दीवाने हैं तो यहां जाना न भूलें।
ओरछा, मध्यप्रदेश
इतिहास की जड़ों से जुड़ा ओरछा मानसून में आपके कई यादगार पलों का साथी बन सकता है। ओरछा की नींव सोलहवीं शताब्दी में बुंदेल राजपूत राजा रुद्रप्रताप द्वारा रखी गई थी।