टोक्यो पैरालंपिक में पैरा भारत के एथलीटों ने कमाल कर दिखाया है। मरियप्पन थंगावेलु ने सिल्वर मेडल जीता, जबकि शरद कुमार को कांस्य मिला। पुरुषों की ऊंची कूद टी63 स्पर्धा में मरियप्पन ने 1.86 मीटर, जबकि शरद ने 1.83 मीटर की कूद लगाई। अमेरिका के सैम क्रू गोल्ड मेडल जीतने में कामयाब रहे।

टोक्यों खेलों की ऊंची कूद में भारत के अब तीन पदक हो गए। इससे पहले भारत के निषाद कुमार ने रविवार को पुरुषों की ऊंची कूद टी47 स्पर्धा में एशियाई रिकॉर्ड के साथ रजत पदक जीता था।

इसके साथ ही मरियप्पन थंगावेलु ने पैरालंपिक खेलों में लगातार दूसरा पदक जीतने का कारनामा किया है। उन्होंने इससे पहले रियो 2016 में भी गोल्ड पर कब्जा किया था। भाला फेंक पैरा एथलीट देवेंद्र झाझरिया के नाम पैरालंपिक में दो स्वर्ण (2004, 2016) पदक दर्ज हैं।

मौजूदा पैरालंपिक में भारत ने अब तक 10 पदक जीत लिये हैं। भारत के खाते में अब 2 स्वर्ण, 5 रजत और 3 कांस्य पदक हैं। यह पैरालंपिक के इतिहास में भारत का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। रियो पैरालंपिक (2016) में भारत ने 2 स्वर्ण सहित 4 पदक जीते थे।