जापान की राजधानी टोक्यो में 23 जुलाई से ओलंपिक खेलों का आगाज हो रहा है, लेकिन इस पर रद्द होने का खतरा मंडरा रहा है। क्योंकि ओलंपिक खेलों के आयोजकों ने खेल गांव में कोरोना वायरस के पहले मामले की पुष्टि की है। आयोजकों का कहना है कि वह कोरोना के खतरे को कम करने की हर संभव कोशिश कर रहे हैं।

शुक्रवार को ही ओलंपिक खेलों में हिस्सा लेने टोक्यो पहुंचे एक खिलाड़ी के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने की खबरें सामने आ गई थीं। लेकिन ओलंपिक खेलों के आयोजकों की ओर से इस मामले पर कुछ नहीं कहा गया था। अब खेल गांव में कोरोना वायरस का पहला मामला आने की बात को स्वीकार कर लिया गया है।

ओलंपिक खेलों के आयोजक की ओर से जारी बयान में कहा गया, ''खेल गांव में कोरोना वायरस का पहला मामला मिला है। स्क्रीनिंग टेस्ट के दौरान कोरोना वायरस का मामला मिला।''

कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए जाने वाले खिलाड़ी को खेल गांव से बाहर भेज दिया गया है। जारी बयान में कहा गया, ''जो शख्स कोरोना पॉजिटिव मिला है वह अब 14 दिन के लिए क्वारंटीन रहेगा। इस शख्स को टोक्यो के एक होटल में रखा गया है।''

स्पेशल प्लान बनाया जा रहा
खेल गांव को कोरोना वायरस के खतरे से बचाने के लिए हर संभव कदम उठाया जा रहा है। आयोजन कमेटी के चीफ ने कहा, ''हम कोरोना वायरस के खतरे से बचने के लिए हर जरूरी कदम उठा रहे हैं। एक कोरोना वायरस फैलता है तो हमारे पास उससे निपटने के लिए एक प्लान जरूर होगा।''

टोक्यो ओलंपिक को पिछले साल कोरोना वायरस की वजह से ही टाल दिया गया था। लेकिन बेहद कड़े कोविड 19 प्रोटोकॉल के साथ इस साल ओलंपिक खेलों का आयोजन हो रहा है। ओलंपिक खेलों का आयोजन मैदान पर बिना दर्शकों के ही होगा।