पेट्रोल और डीजल की बढ़ती हुई कीमतों के चलते सोमवार को इनकी कीमत रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है। सोमवार को दिल्ली में पेट्रोल प्रति लीटर 31 पैसे महंगा होकर 79.15 रुपये लीटर और डीजल 39 पैसे की वृद्धि के बाद 71.15 रुपये लीटर हो गया है। मुंबई में 31 पैसे महंगा होने के बाद पेट्रोल की नई कीमत 86.56 रुपये लीटर है और डीजल के दाम में 44 पैसे की तेजी के बाद यह 75.54 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है। 

पूर्वोत्तर के राज्यों की बात की जाए तो कोहिमा में डीजल 69.53 रुपए लीटर था, वहीं पेट्रोल 77.67 रुपए प्रति लीटर पर बिका। ईटानगर की बात करें तो यहां पेट्रोल 74.96 रुपए प्रति लीटर तो डीजल 68.37 रुपए प्रति लीटर बिका। आईजोल में पेट्रोल 78.05 तो वहीं डीजल 75.05 रुपए प्रति लीटर रहा। गंगटोक में पेट्रोल 82.3 तो वहीं डीजल 73 रुपए प्रति लीटर रहा। इंफाल में पेट्रोल 77.24 तो वही डीजल 77.24 रुपए प्रति लीटर बिक रहा है। 

मुंबई की बात की जाए तो रविवार सुबह पेट्रोल के दाम 86.25 रुपये प्रति लीटर पहुंच गए थे। यह केवल शहर के हिसाब से रेकॉर्ड रेट नहीं है बल्कि यह सभी बड़े मेट्रो शहरों में सबसे ज्यादा है। इससे पहले 29 मई को 86.24 रुपये ऑल-टाइम हाई था। आपको बता दें कि स्थानीय टैक्स की वजह से पेट्रोल और डीजल की कीमतें हर राज्य में अलग होती हैं। 31 अगस्त 2014 के बाद से आज तक पेट्रोल में अधिकतम 10.71 रुपये जबकि डीजल में अधिकतम 11.49 रुपये की वृद्धि हुई है। 

उधर, फेडरेशन ऑफ ऑल महाराष्ट्र पेट्रोल डीलर्स असोसिएशन के उदय लोध ने कहा, तेल मार्केटिंग कंपनियों में हमारे सूत्रों ने बताया है कि ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि पेट्रोल और डीजल की कीमतें आगे भी बढ़ती रहेंगी क्योंकि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में तेजी से बदलाव हो रहे हैं। इसके अलावा डॉलर के मुकाबले रुपया भी गिर रहा है। सरकार को फ्यूल सेस और दूसरे करों में छूट देनी चाहिए। पेट्रोल-डीजल के दाम में हो रही वृद्धि पर घिरी केंद्र सरकार अंतरराष्ट्रीय परिस्थितियों का हवाला दे रही है। पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा, अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत बढ़ने और अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपये की कीमत घटने (अवमूल्यन) के कारण ऐसी हालत हुई है।