अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमत घट जाने के बावजूद देश में बुधवार को तेल विपणन कंपनियों ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया। देश में करीब दो माह से अधिक समय से ईंधन की कीमतों में स्थिरता होने से आम आदमी के लिए राहत बनी हुयी है। 

ये भी पढ़ेंः 15 वर्षीय लड़की ने अपने 37 वर्षीय प्रेमी के साथ मिलकर की मां-बाप की हत्या, बड़ी वजह आई सामने


सार्वजनिक क्षेत्र की देश की सबसे बड़ी तेल विपणन कंपनी इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन (आईओसीएल) के अनुसार, दिल्ली में आज पेट्रोल के दाम 96.72 रुपये और डीजल 89.62 रुपये प्रति लीटर पर बिक रहा है। मुंबई में पेट्रोल और डीजल के दाम क्रमश: 106.31 रुपये प्रति लीटर और 94.27 रुपये प्रति लीटर पर हैं।अंतरराष्ट्रीय बाजार में लंदन ब्रेंट क्रूड आज 0.48 प्रतिशत गिरकर 95.85 डॉलर प्रति बैरल और अमेरिकी क्रूड 0.57 प्रतिशत की गिरावट के साथ 89.98 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा। देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतें मूल्य वर्धित कर (वैट) और माल ढुलाई शुल्क के आधार पर सभी राज्यों में अलग-अलग हैं।

ये भी पढ़ेंः बडगाम में खूंखार आतंकी लतीफ राथर को इंडियन आर्मी ने घेरा, एनकाउंटर जारी, जानिए क्या है आरोप


भारत में तेलों के दाम कई दिनों से स्थिर बने हुए हैं, लेकिन लोगों को इसमें कमी की उम्मीद लगी है। हालांकि सरकारी पेट्रोलियम कंपनियों का बिजनेस देखें तो दाम में बड़ी कमी की संभावना नहीं दिखती। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में कंपनियों के लागत मूल्य बढ़ने के बावजूद पेट्रोल और डीजल की कीमतों को स्थिर रखने की वजह से कुल 18,480 करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ा है। सरकारी क्षेत्र की तीन तेल कंपनियों के मुताबिक, अप्रैल-जून तिमाही में पेट्रोल-डीजल के दाम नहीं बढ़ाने की वजह से उनका घाटा काफी बढ़ गया।