नासा के सोलर डायनेमिक्स ऑब्जर्वेटरी (NASA's Solar Dynamics Observator) ने सूर्य से निकलने वाली तेज चमक को कैप्चर किया है. ये एक बड़े तूफान  का संकेत है जिसके चलते GPS सिग्नल (GPS signals may be disrupted) बाधित हो सकते हैं. बताया जा रहा है कि ये तूफान आज यानी शनिवार को (storm can hit the earth today)  पृथ्वी से टकरा सकता है.

NASA  ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि सूर्य ने गुरुवार को सुबह 11.35 बजे X1 कैटेगरी की एक चमक का उत्सर्जन किया, जो अब तक की सबसे तीव्र तीव्रता है. NASA  ने बताया है कि ये तेज चमक R2887 सनस्पॉट से आ रही है. वहीं, स्पेसवेदर डॉट कॉम की रिपोर्ट के मुताबिक ये तेज सौर तूफान सूरज के केंद्र से आ रहा है और (strong light will fall directly on the earth)  इसकी तेज रोशनी सीधे पृथ्वी पर पड़ेगी.

X1 कैटेगरी में रखे गए यह सौर तूफान आज पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र से टकरा सकता है. इस विस्फोट से बनने वाले सोलर फ्लेयर्स अस्थायी रूप से संचार और नेविगेशन ब्लैकआउट का कारण बन सकते हैं. बताया जा रहा है कि इसका असर दक्षिण अमेरिका में देखा जा सकता है.

बताया जा रहा है कि ये तेज सौर तूफान रेडिएशन का (strong solar storm is a powerful explosion) शक्तिशाली विस्फोट है, हालांकि इससे इंसानों को नुकसान नहीं पहुंच सकता. बताया ये भी जा रहा है कि इसकी इतनी तेज चमक होगी कि इससे वातावरण के वो लेयर प्रभावित हो सकते हैं जिनमें जीपीएस और कम्यूनिकेशन (PS and communication signals)  सिग्नल ट्रैवल करते हैं.

इससे पहले, अमेरिका के नेशनल ओशनिक एंड एटमॉस्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन (एनओएए) के तहत आने वाले अंतरिक्ष मौसम भविष्यवाणी केंद्र ने शुक्रवार को एक सौर तूफान को लेकर चेतावनी जारी की थी. सेंटर ने कहा था कि गुरुवार देर रात सूर्य से होने वाले कोरोनल मास इजेक्शन (सीएमई) के बाद 30 अक्टूबर को ये तूफान आ सकता है. जिसके धरती से टकराने का खतरा है. कोरोनल मास इजेक्शन यानी सीएमई सूर्य की सतह पर होने वाले सबसे बड़े विस्फोटों में से एक को कहते है.