कोलकाता। पश्चिम बंगाल में पशु तस्करी में शामिल होने के आरोप में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के बीरभूम जिलाध्यक्ष अणुव्रत मंडल गुरुवार को शहर के निजाम पैलेस में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) अधिकारियों के सामने पेश हुए। आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी। सूत्रों ने बताया कि टीएमसी जिलाध्यक्ष पर सीमा पार बंगलादेश में मवेशियों की तस्करी में शामिल होने का आरोप लगा है। वह गुरुवार सुबह करीब 9.40 बजे सीबीआई की भ्रष्टाचार निरोधक इकाई के कार्यालय में पेश हुए। 

यह भी पढ़े : एक के बाद एक शानदार पारियों के चलते बढ़ गईं चेतेश्वर पुजारा की टीम इंडिया में वापसी की उम्मीदें


बुधवार को टीएमसी नेता के वकीलों ने सीबीआई कार्यालय को ई-मेल भेजकर उनके स्वस्थ होने की जानकारी दी थी और बताया था कि वह गुरुवार को सीबीआई कार्यालय आने के लिए तैयार हैं। मंडल ने गुरुवार को पेशी से पहले पांच बार समन को छोड़ दिया था, क्योंकि तबीयत बिगडऩे के कारण उन्हें सरकारी एसएसकेएम अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां पर उनका दस दिनों तक उपचार चला था। कलकत्ता उच्च न्यायालय के निर्देश पर सीबीआई टीम शहर में पशु तस्करी घोटाले की जां में जुटी हुई हैं। 

यह भी पढ़े : ज्ञानवापी मस्जिद मामले के बाद चर्चा में आया वजूखाना, क्या होता है वजूखाना? क्या करते हैं यहां

जांच एजेंसी ने इससे पहले 21 सितंबर 2020 को भारत-बांग्लादेश सीमा पर अवैध पशु तस्करी के मामले में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) कमांडेंट सतीश कुमार और कई अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया था। उन्होंने बताया कि घोटाले में सरगना कहे जाने वाले मोहम्मद इनामुल हक को नवंबर 2020 में नयी दिल्ली से गिरफ्तार किया गया था। पूछताछ के दौरान सीबीआई को मामले में कई नामों का पता चला और इसलिए जांच एजेंसी ने टीएमसी नेता को पेश होने का आदेश दिया है।