वाइल्ड लाइफ लवर्स के खुशखबरी है। भारत के उत्तरपूर्वी राज्य असम में बाघों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। यहां पर इनकी संख्या बढ़कर अब 190 हो गई है। जबकि पूरे भारत में बाघों की संख्या 2967 है। इसका खुलासा ग्लोबल टाइगर डे के उपलक्ष में आल इंडिया टाइगर ए​स्टिमेशन 2018 सर्वे के तहत किया गया है। इस रिपोर्ट को भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नई दिल्ली जारी किया है।

असम में साल 2010 में बाघों की संख्या 143 थी जो 2014 में बढ़कर 167 हो गई। जबकि यह आंकड़ा 190 तक पहुंच चुका है। इस बारे में असम के वन मंत्री परिमल शुक्लबैद्य ने ट्वीट करते हुए खुशी जाहिर की है। असम में चार टाइगर रिजर्व हैं। इनमें राजीव गांधी ओरंग नेशनल पार्क राज्य का सबसे छोटा रिजर्व है। इसके अलावा तीन अन्य रिजर्व क्रमश: मानस, कांजीरंगा तथा नामेरी है।

ताजा आंकड़ों के मुताबिक अब भारत में लगभग 3000 बाघ हो गए हैं। इनकी संख्या में पिछले चार सालों में अच्छा इजाफा हुआ है। प्रधानमंत्री ने कहा है कि भारत बाघों के संरक्षण के मामले में दुनिया की सबसे सुरक्षित जगहों में से एक है।

भारत में प्रत्येक चार बाद आल इंडिया टाइगर ​एस्टिमेशन का आयोजन किया जाता है। इससे पहले 2006, 2010 तथा 2014 में इसका आयोजन किया जा चुका है। रिपोर्ट के मुताबिक देश में सबसे ज्यादा बाघ मध्यप्रदेश में है। यहां पर बाघों की संख्या 526 है। 524 बाघों के साथ कर्नाटक दूसरे तथा 442 बाघों के साथ उत्तराखंड तीसरे स्थान पर है। हालांकि छत्तीसगढ़ और मिजोरम में इनकी संख्या में कमी आई है, जबकि ओड़िसा में यह इनकी संख्या यथावत है।