बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Bihar CM Nitish Kumar) ने शनिवार को स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिया है कि जिनके पास आधार कार्ड (Aadhar Card) नहीं हैं, उन्हें दूसरे पहचान पत्र के आधार पर टीका लगवाएं। उन्होंने हालांकि यह भी निर्देश दिया कि ऐसे लोगों का आधार कार्ड भी बनवाएं।

मुख्यमंत्री (CM) शनिवार को स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक में अधिकारियों को कोरोना टीकाकरण (Corona vaccination) और जांच को लेकर कई निर्देश दिए। बैठक में मुख्यमंत्री ने टीका से बचे लोगों का टीकाकरण तेजी से कराने के निर्देश देते हुए कहा कि आधार कार्ड (Aadhar card) नहीं रहने के कारण जिनका वैक्सीनेशन नहीं हो पाया है, उनका किसी दूसरे पहचान पत्र के आधार पर टीकाकरण कराएं और उनका आधार कार्ड भी अवश्य बनवाएं।

दीपावली एवं छठ महापर्व (Diwali and Chhath festival) पर अन्य राज्यों से बिहार आने वाले सभी लोगों के कोरोना जांच कराने के निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री (CM) ने कहा कि बाहर से आने वाले लोगों को भी अगर टीका नहीं लगा हो तो उन्हें भी टीका लगाया जाए।

उन्होंने आने वाले लोगों से अपना टीकाकरण एवं आरटीपीसीआर जांच (Vaccination and RT-PCR test) का प्रमाण पत्र रखने की भी अपील की। मुख्यमंत्री (CM) ने अधिकारियों से रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड एवं इंटर स्टेट बॉर्डर चेक प्वाइंट पर बाहर से आने वालों पर विशेष नजर रखने और इन जगहों पर कोरोना जांच (Corona test) की व्यवस्था करने के निर्देश दिए।

उन्होंने खासकर नेपाल से सटे राज्य के सीमावर्ती जिलों में कोरोना संक्रमण (corona infection) को लेकर विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री (CM) ने कोरोना जांच की संख्या बढ़ाने के लिए भी अधिरकारियों को निर्देश दिए।

समीक्षा बैठक में स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने कोरोना के साथ-साथ अन्य बीमारियों को लेकर विभाग द्वारा किए जा रहे कार्यों की अद्यतन स्थिति की विस्तृत जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि छठ महापर्व के पूर्व कोरोना वैक्सीनेशन अभियान (Corona vaccination) और तेज किया जायेगा और कोरोना जांच की संख्या और बढ़ाई जायेगी। उन्होंने कहा कि 18, 19 और 20 अक्टूबर को कोरोना वैक्सीन के दूसरे डोज को लेकर डोर-टू-डोर अभियान चलाया जायेगा। इस दौरान लोगों को कोरोना वैक्सीन का दूसरा डोज लेने के लिए भी प्रेरित किया जाएगा।