इस बार मानसून जाने का नाम नहीं ले रहा है। आम तौर पर 17 सितंबर से मानसून की विदाई शुरु हो जाती है, लेकिन अभी भी कई राज्यों को अगले 10 दिनों तक जमकर भीगना होगा। मौसम विभाग ने मध्य और उत्तरी भारत के कई हिस्सों में बारिश होने की बात कही है। 

आईएमडी ने कहा है कि ओडिशा के समुद्री तट पर पैदा हुए डिप्रेशन की वजह से भारत के 13 राज्यों में बारिश होने का अनुमान है। उसने कहा है कि दिल्ली, मध्य प्रदेश, राजस्थान, महाराष्ट्र का उत्तर-मध्य हिस्सा और उत्तर प्रदेश में अगले तीन-चार दिनों तक भारी बारिश हो सकती है। गुजरात में अगले दो-तीन दिनों तक बहुत ज्यादा बारिश होने का अनुमान जताया गया है। मंगलवार को जूनागढ़ में 100 मिली मीटर से 150 मिली मीटर बारिश दर्ज की गई। सूरत, डांग, नवासरी, वलसाड, तापी और दक्षिणी गुजरात में भी खूब बारिश हुई। वहीं, राजकोट, अमरेली, भावनगर, गिर-सोमनाथ और सौराष्ट्र क्षेत्र में आने वाले केंद्रशासित प्रदेश दमन और दीव में भी बारिश का अनुमान है।

वहीं छत्तीसगढ़ के कुछ इलाकों में भारी बारिश का अनुमान जताया गया है। प्रदेश के बिलासपुर, कोरबा, सूरजपुर, बलरामपुर और मुंगेली जिलों में भारी बारिश की संभावना है। वहीं, राजनंदगांव, दुर्ग और कबीरधाम समेत सात जिलों में बहुत ज्यादा बारिश की संभावना है। भारतीय मौसम विभाग ने गोवा में भारी बारिश होने की संभावना जताई है। मछुआरों को समुद्र में जाने से मना किया गया है क्योंकि जोरदार समुद्री हवाएं चलने का अनुमान जताया गया है। दिल्ली में इस महीने अच्छी-खासी बारिश होने के बावजूद बुधवार रात से हल्की से मध्यम बारिश का एक और दौर शुरू हो सकता है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि शहर में मध्यम बारिश के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। कुछ स्थानों पर भारी बारिश भी आ सकती है। ऑरेंज अलर्ट अत्यधिक खराब मौसम के लिए चेतावनी के तौर पर जारी किया जाता है जिसमें सड़कों के जलमग्न होने, नालियों के भरने और बिजली आपूर्ति बाधित होने की आशंका होती है।