दुनिया में कई  तरह की बीमारियां है जो बहुत ही दुर्लभ है तो कोई बहुत ही आम भी है। इसी तरह से उत्तर प्रदेशके हरदोई जिले से एक ऐसी बीमारी  आई है जो कि दुनिया में सिर्फ एक बार एक ही शख्स को हुई और कई सालों बाद यूपी की इस महिला को हुई है। यानी की इस हैरान कर देने वाली बीमरी का दुनिया में यह दूसरा मामला है।

बता दें कि महिला को हार्मोन और खून संबंधित दुर्लभ राबर्टसोनियन ट्रांसलोकेशन जनित एप्लास्टिक एनीमिया है। लखनऊ के केजीएमयू में इलाज के दौरान युवती में इस बीमारी का पता चला है। केजीएमयू हिमैटोलॉजी विभाग के डॉक्टरों का दावा है कि अमेरिका के बाद इस बीमारी का यह दुनिया में दूसरा मामला है।
इन्होंने बताया कि इस बीमारी का पहला मरीज करीब 37 साल पहले 1984 में अमेरिका के डॉ. पीटर नावेल ने रिपोर्ट किया था। डॉक्टरों का कहना है कि यह जेनेटिक बीमारी राबर्टसोनियन ट्रांसलोकेशन से एप्लास्टिक एनीमिया हुआ। जीनोम और क्रोमोसोम जांच से खुलासा हुआ है कि किसान की 17 साल की बेटी को अचानक कमजोरी महसूस होने लगी। चलना-फिरना दूर्लभ हो गया था। ये है बीमारी● राबर्टसोनियन ट्रांसलोकेशन के कारण हार्मोन संबंधित बीमारियां होती हैं। सेक्सुअल ग्रोथ प्रभावित होती है। मरीज बौनेपन का शिकार हो जाता है।● एप्लास्टिक एनीमिया में बोन मैरों की कोशिकाएं काम करना बंद कर देती हैं जिससे शरीर में खून, प्लेटलेट्स व श्वेत रक्त कणिकाओं की कमी हो जाती है। नतीजतन मरीज में कमजोरी, बार-बार संक्रमण और रक्तस्राव जैसी समस्या होती है।