यूनाइटेड किंगडम के 19वें पूर्व प्रधानमंत्री विलियम इवार्ट ग्लैडस्टोन ने कहा था, “अगर आप ठंडे हैं, तो चाय आपको गर्म करेगी, अगर आप गर्म हैं, तो यह आपको ठंडा कर देगी।" भारत जैसे देश में जहां हर जगह चाय आम बात है और जब एक गर्म कप गाढ़ी, दूधिया, शक्कर वाली 'चाय' की चुस्की लेने का मौका मिले तो जिस वक्त तापमान रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच जाता है, शायद ज्यादातर लोगों के दिमाग में आखिरी शब्द चाय ही आएगा। लेकिन जिस वक्त लोग चाय के परंपरागत स्वाद के आदी हैं, इसके माहिर ऐसी कई अनोखी चाय बनाने की कोशिश करने और स्वाद लेने में लगे हुए हैं जो शरीर को ठंडा और तरोताजा करती हैं।

यह भी पढ़े : Rashifal : आज इन राशियों पर बरसेगी हनुमान जी और शनिदेव की कृपा, रुके हुए धन की प्राप्ति होगी


बुरांश चाय या रोडोडेंड्रोन चाय एक ऐसा ही पेय है जो उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश और सिक्किम के आसपास के उत्तरी क्षेत्रों में काफी लोकप्रिय है। यह चाय मार्च के अंत से मई तक हिमालयी क्षेत्र की ठंडी पहाड़ियों में खिलने वाले सुर्ख लाल रोडोडेंड्रोन फूलों की सूखी पंखुड़ियों से बनती है। बुरांश चाय पाचन में सहायक, एलर्जी से लड़ने और फेफड़ों की सेहत में सुधार के अलावा इसके सूजन कम करने वाले गुणों के लिए जानी जाती है।

यह भी पढ़े : Horoscope today 21 May : इन राशिवालों को नौकरी में मिलेगी तरक्की, जानिए संपूर्ण राशिफल


रोडोडेंड्रोन फूलों की पंखुड़ियों को हाथ से चुना जाता है, फिर धूप में सुखाया जाता है और चीनी के साथ पानी में उबाला जाता है। इससे छानने और परोसने से पहले, स्वाद को बढ़ाने के लिए तुलसी के पत्ते और कुछ ग्रीन टी भी डाली जाती है।

 

माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म कू ऐप पर उत्तराखंड टूरिज्म ने बुरांश चाय की एक पोस्ट डालते हुए लिखा- "लव एट फर्स्ट सिप!"

बुरांश चाय को ठंडे या गर्म पेय के रूप में दिन में किसी भी समय लिया जा सकता है। इस 'फूलदार' मिश्रण की तरह, 'फ्रूटी' आइस्ड टी इस गर्मी में चाय प्रेमियों को तेजी से आकर्षित कर रही है। विशेष रूप से सेब और अंगूर की आइस्ड टी, जो अपने एंटीऑक्सीडेंट बूस्ट के लिए जानी जाती हैं।

भारतीय चाय बोर्ड ने कू यूजर्स से उनकी चाय की पसंद के बारे में पूछा- "आइस्ड टी का आपका पसंदीदा फ्लेवर कौन सा है?",

ठंडे पेय के रूप में, आइस्ड टी को कुछ घंटों के लिए ठंडे पानी में चाय को डालने के बाद बनाया जाता है, जिससे पानी में इसका स्वाद अच्छी तरह से मिल जाता है। यह प्रक्रिया टैनिन के कारण इसमें मौजूद किसी भी कड़वाहट को कम करती है, इस मिश्रण को एक बेहतरीन बनाती है और इसे सोडा पेय के स्थान पर एक बेहतरीन विकल्प बनाती है।

यह भी पढ़े : Rashifal : आज इन राशियों पर बरसेगी हनुमान जी और शनिदेव की कृपा, रुके हुए धन की प्राप्ति होगी


चाय पीने वाले एक देश में, जहां प्रति व्यक्ति खपत लगभग 750 ग्राम प्रति वर्ष है, तरोताज़ा करने वाले नए मिश्रण धीरे-धीरे चाय पीने वालों के लिए पसंदीदा पेय बन रहे हैं, विशेष रूप से मिलेनियल्स के लिए, जो अनोखे, मौसमी और स्थानीय पेय को इस्तेमाल करने और बेहतर बनान के लिए उत्सुक हैं।