इटाखोला  । लोकसभा के प्रथम पर्याय का चुनाव का दिन जितना नजदीक आता जा रहा है उतना की रोचक बन रहा है तेजपुर का चुनाव प्रचार।  प्रचार कार्य में कांग्रेस और भाजपा के उम्मीदवार क्रमश: पूर्व  प्रशासनिक अधिकारी एमजीवीके भानु और रांगापाड़ा क्षेन्न के विधायक पल्लव लाेवन दास मैदान पर खरे उतरे हैं। उनके समर्थक भी बड़े  उत्साह के साथ अपने-अपने उम्मीदवारों का हाथ बंटा रहे हैं । 

वाेटर जनता के अनुसार दानों उम्मीदवार वर्तमान तक मजबूत स्थिति में है और दोनों को जीत हासिल करने के लिए लिए भारी परेशानी उठानी पड़ेगी । दोनों समान शक्तिशाली हैं । तेजपुर लोकसभा क्षेत्र के प्राय 12,60,000 वाटरों में से असमीया की संख्या 4.50 लाख, मुसलमान 2.36 लाख, बोड़ो  1.60 लाख, बंगाली 1.02 लाख, आदिवासी 2.74 लाख, नेपाली 2  लाख और अन्य 30 हजार हैं । क्षेत्र  के राजनैतिक समीक्षकों के अनुसार कांग्रेस दल केउम्मीदवार एमजीचीके  भानु को असमिया वोटरों में से 40  प्रतिशत, मुसलमान से 80  प्रतिशत, आदिवासी से 20 से 30 प्रतिशत, बोड़ो से 60 प्रतिशत, नेपाली से 40  से 50 प्रतिशत, बंगाली से 20 से 30  प्रतिशत वोट मिलने की उम्मीद की गई है ती दूसरी तरफ प्रल्लव लोचन  दास को असमीया से 50 प्रतिशत, मुसलमानों से 10 प्रतिशत, बोड़ो से 30 से 40 प्रतिशत, बंगाली से 60 से 70 प्रतिशत, आदिवासी से 80 प्रतिशत और नेपाली से 40 से 50 प्रतिशत  वोट मिलने की उम्मीद की जा सकती है । समीक्षा के अनुसार कहा जा सकता है कि इस बार तेजपुर संसदीय क्षेत्र में  कांग्रेस और भाजपा के उम्मीदवारों के  बीच रोमांचक मुकाबला होगा ।